बेरूत: उत्तर-पश्चिमी सीरिया में रूस के हवाई हमले में कम से कम 23 नागरिकों की मौत हो गई. यह क्षेत्र विद्रोहियों के कब्जे वाला है और हवाई हमले के बाद मानवीय संकट यहां और भी गहरा गया है. सरकारी समाचार एजेंसी सना ने बताया कि रूस के हमले के बाद रॉकेट हमले का आरोप विद्रोहियों और जिहादियों पर लगाया जा रहा है और इसमें उत्तरी सीरिया में सरकारी शासन वाले क्षेत्र में तीन लोगों की मौत हो गई. Also Read - युवा मन के साथ देश आगे बढ़ रहा है, इसलिए वो सर्जिकल और एयर स्ट्राइक करता है: पीएम मोदी

अलेप्पो में हवाई हमले से एक ही परिवार के आठ लोगों की मौत हो गई. यह परिवार एक घर में शरण लिए हुए था. कफार ताल में हुए हवाई हमले में मरनेवालों में छह बच्चे हैं. यहां एक दिन पहले हुए हवाई हमले में तीन लड़कियों की मौत हो गई थी. वहीं अन्य 15 नागरिकों की मौत रूस के हवाई हमले में पश्चिम अलेप्पो और दक्षिणी इदलिब के क्षेत्र में हो गई. Also Read - फिर बेनकाब हुआ पाकिस्तान, एयर स्ट्राइक में मारे गए पायलटों के लिए बनवाया स्मारक

समुद्री डाकुओं ने अगवा किए थे 20 भारतीय, 19 हुए रिहा, एक की मौत Also Read - पीएम मोदी ने कश्मीर को एक ही झटके में भारत का अविभाज्य हिस्सा बना दिया: अमित शाह

दूसरी तरफ यमन के मारिब में सैन्य शिविर में एक मस्जिद पर मिसाइल और ड्रोन हमले में 80 से अधिक सैनिकों की जान चली गई और सैकड़ों घायल हुए हैं. चिकित्सकीय एवं सैन्य सूत्रों ने रविवार को यह जानकारी दी. इन हमलों के लिए हूती विद्रोहियों को जिम्मेदार ठहराया जा रहा है. ईरान समर्थित हूती विद्रोहियों और सऊदी अरब के नेतृत्व वाले सैन्य गठबंधन समर्थित यमन सरकार के बीच जारी युद्ध में कुछ महीनों की अपेक्षाकृत शांति के बाद शनिवार को यह हमला हुआ.

लंदन में सिख गुटों में झड़प में 3 मरे, 2 गिरफ्तार

सैन्य सूत्रों ने बताया कि हूती विद्रोहियों ने सना के पूर्व में करीब 170 किलोमीटर दूर मारिब में शाम को नमाज के दौरान एक सैन्य शिविर में मस्जिद पर हमला किया. हताहतों को मारिब शहर के एक अस्पताल ले जाया गया. अस्पताल के एक चिकित्सकीय सूत्र ने बताया कि हमले में 83 सैनिक मारे गए हैं और 148 अन्य घायल हुए हैं.