वॉशिंगटन: मुंबई पर 2008 के आतंकवादी हमले के मामले में दोषी पाकिस्तानी मूल के अमेरिकी नागरिक डेविड कोलमैन हेडली पर शिकागो जेल में कैदियों ने हमला किया है. इस हमले में यह आतंकी गंभीर रूप से घायल हो गया है. हालांकि इस रिपोर्ट को लेकर अमेरिकी अधिकारियों ने टिप्पणी से इनकार कर दिया है. अपुष्ट सूत्रों ने यह भी कहा है कि इस हमले में हेडली की मौत हो गई है, लेकिन अभी तक इसकी पुष्टि नहीं हुई है.

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक हमले के बाद हेडली जिंदगी और मौत के बीच संघर्ष कर रहा है. शिकागो में मेट्रोपोलिटन करेक्शनल सेंटर ने न्यूज एजेंसी पीटीआई को ईमेल से दिए एक संक्षिप्त जवाब में घटना के बारे में बताते हुए कहा, ” हमारे पास उस व्यक्ति (हेडली) के बारे में सूचना नहीं है.” कुछ मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि आठ जुलाई को दो अन्य कैदियों ने हेडली पर हमला किया था. रिपोर्ट में कहा गया है कि घायल हेडली को नॉर्थ इवांस्टन अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

रिपोर्ट्स में कहा गया है कि हेडली पर बीते 8 जुलाई को जेल में दो कैदियों ने हमला किया था. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक उसे गंभीर चोटें आई और उसे नॉर्थ इवांस्टन हॉस्पिटल में गंभीर हालत में क्रिटिकल केयर यूनिट में भर्ती कराया गया. बता दें कि अमेरिका की एक कोर्ट ने हेडली को मुंबई में 2008 के आतंकी हमले में 35 साल की सजा सुनाई थी. बता दें कि मुंबई हमले में उसे साल 2009 में गिरफ्तार किया गया था. हेडली ने आतंकी हमले से पहले भारत के कई शहरों में घूमकर आतंकी निशाना बनाने के लिए जगह तय करने में मदद की थी. उसने मुंबई में भी रेकी की थी.

पाकिस्तानी मूल का डेविड हेडली का मूल नाम दाउद सैयद गिलानी है. उसके पिता पाकिस्तान के पूर्व राजनयिक रहे हैं. हेडली पाकिस्तानी जासूसी एजेंसी आईएसआई के साथ काम करता था और 26/11 मुंबई हमले के मुख्य साजिशकर्ताओं में से एक है. अमेरिका की कोर्ट ने 24 जनवरी 2013 को उसे दोषी करार देते हुए मुंबई हमले में दोषी होने पर 35 साल जेल की सजा सुनाई थी.

(इनपुट- एजेंसी)