तेहरान: ईरान में शराब पीने से नोवेल कोरोना वायरस का संक्रमण ठीक होने की अफवाह फैलने के बाद मेथानॉल का सेवन करने से 27 लोगों की मौत हो गई. यह जानकारी सरकारी संवाद समिति इरना ने सोमवार को दी. चीन के बाहर इस घातक विषाणु से सर्वाधिक प्रभावित देशों में ईरान भी शामिल है. Also Read - COVID-19: आईपीएल फ्रेंचाइजी सनराइजर्स हैदराबाद ने 10 करोड़ रुपये दिए दान, कमेंट करने से खुद को नहीं रोक पाए वॉर्नर

‘इरना’ ने बताया कि अवैध शराब पीने से दक्षिण पश्चिम प्रांत खुजेश्तान में 20 लोगों की मौत हो गई जबकि सात लोगों की मौत उत्तरी अलबोर्ज क्षेत्र में हुई. ईरान में शराब पीने पर प्रतिबंध है. कुछ गैर मुस्लिम धार्मिक अल्पसंख्यकों को ही शराब पीने की छूट है. खुजेश्तान की राजधानी अहवाज के जुनदीशापुर चिकित्सा विश्वविद्यालय के प्रवक्ता ने बताया कि अवैध शराब पीने के बाद 218 लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है. अली अहसानपुर ने कहा कि इन अफवाहों के बाद लोगों ने जहरीली शराब पी कि कोरोना वायरस के इलाज में यह प्रभावी हो सकता है. Also Read - Coronavirus: देश में 24 घंटे में 20 लोगों समेत अब तक कुल 169 जानें गईं, संक्रमित 5865

Coronavirus: भारत, 13 अन्य देशों के नागरिकों की कतर यात्रा पर प्रतिबंध Also Read - Covid-19: कोरोना के अगले चरण के लिए तैयार किए जा रहे डॉक्टर और नर्स

अलबोर्ज के उप अभियोजक मोहम्मद अघयारी ने इरना से कहा कि मृतकों ने इस भ्रम में मेथानॉल पी ली कि वे कोरोना वायरस से लड़ रहे हैं और ठीक हो रहे हैं. मेथानॉल ज्यादा मात्रा में पी लेने से अंधापन हो सकता है, यकृत को नुकसान हो सकता है और इससे मौत हो सकती है.