बीजिंग: चीन में कोरोना वायरस संक्रमण के 37 नए मामले सामने आए हैं, जिनमें से 25 मामले देश की राजधानी बीजिंग से हैं. राजधानी में अभी 183 संक्रमित लोगों का इलाज चल रहा है और सरकार ने यहां कोरोना वायरस संक्रमण फैलने से रोकने के लिए युद्ध स्तर पर कदम उठाए हैं. इस बीच चीनी विषाणु वैज्ञानिकों ने कहा है कि संभव है कि राजधानी में नए मामले यूरोप से आए हों.Also Read - भारत, चीन पूर्वी लद्दाख में लंबित मुद्दों को तेजी से हल करने को सहमत: संयुक्त बयान

सरकार द्वारा संचालित ग्लोबल टाइम्स की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि महामारी विज्ञान संबंधी एक प्रारंभिक सर्वेक्षण से पता चलता है कि बीजिंग के शिनफादी थोक बाजार में मिला कोरोना वायरस यूरोप से आया था. Also Read - सिक्किम सेक्टर में भारत और चीन की सेनाओं के बीच हॉटलाइन स्थापित

चीनी रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र में प्रमुख महामारी विज्ञान विशेषज्ञ वू ज़ुनयू ने मीडिया से कहा कि बीजिंग के निष्कर्षों ने हमें पिछले साल वुहान में कोविड​​-19 के पहले प्रकोप की याद दिला दी जो ‘सीफूड’ बाजार में सामने आया था. Also Read - India-China के बीच 12वें राउंड की मोल्‍दो में कॉर्प्‍स कमांडर स्‍तर की वार्ता जारी, इन टकराव वाले प्‍वाइंटस पर चर्चा

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने पहले ही चीनी अधिकारियों के दावों पर सवाल उठाया है कि शिनफादी में मिला वायरस कथित तौर पर यूरोप में उत्पन्न हुआ था। संगठन का कहना है कि इस दावे की पुष्टि करने के लिए कोई सबूत नहीं है. इससे पहले राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयेाग (एनएचसी) ने बताया कि देश में बृहस्पतिवार को सामने आए 37 नए मामलों में से 28 घरेलू स्तर पर फैले मामले हैं। इसके अलावा विदेश से आए चार लोग संक्रमित पाए गए हैं। वहीं पांच लोग बिना किसी लक्षण के संक्रमित पाए गए.