कैनबरा: ऑस्ट्रेलिया के एक थिंक टैंक का मनना है कि चीन शिनजियांग में गोपनीय हिरासत केन्द्रों की संख्या बढ़ा रहा है. ऑस्ट्रेलियाई सामरिक नीति संस्थान (एएसपीआई) ने उपग्रह तस्वीरों और आधिकारिक निर्माण निविदा दस्तावेजों के माध्यम से पता लगाया कि शिनजियांग उइगुर स्वायत्त क्षेत्र में 380 से अधिक संदिग्ध हिरासत केन्द्र हैं. इनमें पुनर्शिक्षण शिविर, हिरासत केन्द्र और जेल शामिल हैं, इनका निर्माण हाल ही में किया गया है अथवा 2017 के बाद से इनमें विस्तार हुआ है. Also Read - जल्द छोड़ा जाएगा हिरासत में लिया गया चीनी सैनिक, भारतीय सेना ने दिए गर्म कपड़े और खाना

यह रिपोर्ट उन सबूतों पर आधारित है कि चीन ने अस्थायी सार्वजनिक इमारतों में उइगुर और अन्य मुस्लिम अल्पसंख्यकों को नजरबंद करने की नीति में बदलाव किया है और उन्हें स्थायी सामूहिक हिरासत केन्द्रों में रखा जा रहा है. Also Read - LAC Dispute: भारत-चीन सीमा विवाद को लेकर बातचीत के लिए तैयार, 8वें दौर की वार्ता हो सकती है इस सप्ताह

संस्थान के शोधकर्ता नाथन रुसर ने एक रिपोर्ट में लिखा, ‘‘उपलब्ध साक्ष्य बताते हैं कि शिनजियांग के ‘पुनर्शिक्षण’ नेटवर्क में बंद कई न्यायेतर बंदियों को अब औपचारिक रूप से आरोपित किया जा रहा है और उन्हें उच्च सुरक्षा वाले केंद्रों में बंद किया गया है. इनमें नव-निर्मित अथवा विस्तारित जेल भी शामिल है, या इन्हें ज़बरदस्ती मजदूरी करने के लिए कारखाना परिसरों में रखा गया है.’’ यह रिपोर्ट एक दिन पहले जारी हुयी है. रिपोर्ट में कहा गया है कि जुलाई 2020 तक कम से कम 61 हिरासत केंद्रों में नए निर्माण किए गए हैं या उनका विस्तार किया गया है. Also Read - ट्विटर ने जम्मू-कश्मीर को बताया चीन का हिस्सा, भड़के लोगों ने रविशंकर प्रसाद से की कार्रवाई की मांग

(इनपुट भाषा)