वॉशिंगटन: व्हाइट हाउस में प्रौद्योगिकी नीति के एक पूर्व सलाहकार और एक मुस्लिम महिला समेत चार भारतीय-अमेरिकियों ने मंगलवार को अमेरिका में हुए राज्य एवं स्थानीय चुनावों में जीत दर्ज की. भारतीय-अमेरिकी गजाला हाशमी ने वर्जीनिया राज्य की सीनेट में निर्वाचित होने वाली पहली मुस्लिम महिला बन कर इतिहास रच दिया. Also Read - विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने की अमेरिकी उप विदेशमंत्री से बात, हिंद-प्रशांत, कोविड-19 से निपटने को लेकर हुई चर्चा

गजाला पूर्व में सामुदायिक कॉलेज की प्राध्यापक रह चुकी हैं. वहीं, पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा के व्हाइट हाउस प्रौद्योगिकी नीति सलाहकार रह चुके सुहास सुब्रह्मण्यम वर्जीनिया राज्य की प्रतिनिधि सभा में निर्वाचित हुए हैं. Also Read - चीन हो या कोई और संघर्ष में भारत के साथ खड़ी रहेगी अमेरिकी आर्मी: व्हाइट हाउस

अपने पहले ही प्रयास में डेमोक्रेट हाशमी ने मौजूदा रिपब्लिकन सीनेटर ग्लेन स्टर्टेवंट को हराकर पूरे देश का ध्यान अपनी ओर खींचा है. पूर्व विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन मे हाशमी को इस जीत की बधाई दी. Also Read - यूएस प्रेसिडेंट ट्रंप के बेटे की प्रेमिका Coronavirus से पॉजिटिव, जूनियर ट्रंप पृथक-वास में

हाशमी 50 साल पहले अपने परिवार के साथ भारत से अमेरिका आकर बस गईं थीं.

वहीं सुब्रह्मण्यम ने भारतीय अमेरिकी बहुल लॉडन एंड प्रिंस विलियम जिले से वर्जीनिया राज्य की प्रतिनिधि सभा में अपनी जगह सुनिश्चित की है. उनकी मां मूल रूप से बेंगलुरु की रहने वाली हैं और वह 1979 में अमेरिका आ गईं थीं.

कैलिफोर्निया में, भारतीय मूल के अमेरिका मानो राजू ने सैन फ्रांसिस्को के पब्लिक डिफेंडर के पद पर फिर से जीत दर्ज की है.

इस बीच, नॉर्थ कैरोलिना में डिंपल अजमेरा भी शार्लोट सिटी काउंसिल में पुन: निर्वाचित हुई हैं. वह 16 साल की उम्र में अपने माता-पिता के साथ अमेरिका आई थीं.