पालू: इंडोनेशिया के पालू शहर में भूकंप और सूनामी के बाद लापता लोगों की संख्या पांच हजार तक पहुंच गई. रविवार को अधिकारियों ने बताया कि इससे संकेत मिलता है कि आपदा में मरने वालों की बहुत ज्यादा हो सकती है. इंडोनेशिया की आपदा एजेंसी ने कहा कि 28 सितंबर को आए 7.5 तीव्रता के भूकंप और फिर सूनामी के बाद से अबतक 1,763 शव बरामद किए जा चुके हैं.

बुरी तरह से प्रभावित पालू के दो इलाकों- पेतोबो और बालारोआ में जमीन में हजारों लोगों के दफन होने का अंदेशा है. वहां पूरी की पूरी बस्ती ही जमीन में समा गई है.

सुनामी से प्रभावित इंडोनेशिया की मदद को आगे आया भारत, शुरू किया ऑपरेशन ‘समुद्र मैत्री’

एजेंसी के प्रवक्ता सुतोपो पुरवो नुगरोहो ने रविवार को मीडियाकर्मियों से कहा, ”बालारोआ और पेतोबो के (ग्राम) प्रमुखों की रिपोर्ट के अनुसार कम से कम पांच हजार लोग लापता हैं.”

नुगरोहो ने कहा कि फिर भी अधिकारी इसकी पुष्टि करने की कोशिश कर रहे हैं और आंकड़े जुटा रहे हैं. भूस्खलन में फंसे लोगों की सटीक संख्या पता लगाना आसान नहीं है. उन्होंने कहा कि लापता लोगों का पता लगाने का अभियान 11 अक्टूबर तक चलेगा और उसके बाद उन्हें लापता, संभवत: मृत के तौर पर सूचीबद्ध किया जाएगा.

इंडोनेशिया के सुंबा द्वीप में फिर कांपी धरती, रिएक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 5.9: यूएसजीएस

अधिकारियों ने शुरू में करीब एक हजार लोगों के दफन होने का अनुमान जताया था. पेतोबो शक्तिशाली ज़लज़ले में पूरी तरह से नष्ट हो गया है, जबकि सूनामी ने पालू को तबाह कर दिया.

इंडोनेशिया की खोज और बचाव एजेंसी के प्रमुख मोहम्मद सयौगी ने रविवार को कहा कि यह 10वां दिन है. जमीन में से किसी को जिंदा निकालना अब एक चमत्कार ही होगा.

इंडोनेशिया: भूकंप और सुनामी से 420 की मौत, बढ़ सकती है संख्या, मदद को भारत ने बढ़ाए हाथ