11 सितंबर 2001 की एक ऐसी भयानक सुबह जिसने पूरी दुनिया को हिला कर रख दिया. उस दिन लोग सामान्य दिनों की तरह ही अपने काम में लगे हुए थे. वर्ल्ड ट्रेड सेंटर में भी सबकुछ सामान्य था. सुबह करीब 8.46 बजे न्यूयार्क के वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के उत्तरी टॉवर में जेट एयरलाइंस के विमान को आतंकवादियों ने टकरा दिया. लोग कुछ समझ पाते तब तक दूसरा विमान 9.03 मिनट पर इसके दक्षिणी टॉवर को भेदता हुआ निकल गया. इसके भाग विस्फोट के साथ ही आग लग गई और पूरी बिल्डिंग भरभराकर गिरने लगी. इसके बाद वाशिंगटन के पेंटागन में विमान गिराया गया जिससे उसका एक हिस्सा ढह गया. कुछ ही देर बाद पिट्सबर्ग हवाई अड्डे के पास विमान गिरने की एक और खबर आई. एक के बाद एक हो रहे हमलों से अमेरिका सहम गया और पूरी दुनिया स्तब्ध रह गई.

प्रतीकात्मक चित्र

प्रतीकात्मक चित्र

दुनिया के सबसे ताकतवर देश अमेरिका पर हुए सबसे बड़े आतंकी हमले की आज 16वीं बरसी है. आज से 16 साल पहले ओसामा बिन लादेन ने अमेरिका को घायल कर दिया था. इतना गहरा जख्म की तीसरे विश्व युद्ध की भी सुगबुगाहटें होने लगी थी. लेकिन हुआ कुछ उल्टा. आतंकवाद के मुद्दे पर पूरी दुनिया साथ आई और एकसाथ आतंक से निपटने का संकल्प लिया. शायद इस घटना ने अमेरिका का कुछ गुरूर भी तोड़ा. अमेरिका ने 2011 में पाकिस्तान के एबटाबाद में हमले के मुख्य जिम्मेदार ओसामा बिन लादेन को मार गिराया.

यह भी पढेंः ओसामा बिन लादेन ज़िंदा है: एडवर्ड स्नोडेन

अलकायदा के 19 आतंकवादियों ने अमेरिका के चार यात्री विमान को हाईजैक कर इस सबसे बड़ी आतंकी घटना  को अंजाम दिया था. इनमें से 3 प्लेन उन्होंने निशाने पर क्रैश करवाए थे. इस हमले में 400 पुलिस कर्मियों समेत 2983 लोगों की मृत्यु हो गई थी. इसके अलावा अमेरिका को अरबों की आर्थिक क्षति भी उठानी पड़ी थी.

9/11 हमले की 16वीं बरसी में ग्राउंड जीरो पर जुटे हजारों लोग, ट्रंप और मेलानिया ने भी दी श्रृद्धांजलि

9/11 हमले की 16वीं बरसी में ग्राउंड जीरो पर जुटे हजारों लोग, ट्रंप और मेलानिया ने भी दी श्रृद्धांजलि

इस घटना के बाद अमेरिका ने अपनी सुरक्षा नीतियों में भारी फेरबदल किए. विदेशों से आने वाले यात्रियों पर कड़ी निगरानी रखी जाने लगी और कई देशों के वीजा में भी कटौती की गई. इसी का परिणाम है कि एअरपोर्ट पर अक्सर मुस्लिमों के गहन चेकिंग की खबरें सामने आती हैं. भारत में शाहरुख खान का मामला काफी फेमस है. आज पूरा अमेरिका उस आतंकी हमले में शहीद हुए लोगों को श्रृद्धांजलि अर्पित करता है.