मिलान: इटली के जिनोवा शहर के औद्योगिक क्षेत्र में बना एक पुल अचानक आए भीषण तूफान में ढह गया. पुल के मलबे में कई वाहन दब गए. इटली के गृह मंत्रालय ने कहा कि जिनोआ पुल हादसे में 30 लोगों के मरने की पुष्टि की है. निजी प्रसारक स्काई टीजी 24 ने कहा कि औद्योगिक क्षेत्र में मोरंडी पुल का 200 मीटर का हिस्सा ढह गया. परिवहन मंत्री डेनिलो टोनीनेल्ली से हादसे को बड़ी दुखद घटना बताया. Also Read - Coronavirus: कोरोना से दुनिया त्रस्त, भारत मे एक लाख से अधिक मामले, इन 10 देशों में स्थिति हमसे बदतर

इतालवी मीडिया ने कहा कि इस घटना में कई लोगों के मरने की खबर है, लेकिन जिनोवा की पुलिस अधिकारी मारिया लुइसा कैटालानो ने कहा कि अधिकारी अब भी बचाव कार्य में लगे हैं और हताहतों की सही संख्या का अब तक पता नहीं है. Also Read - रोनाल्डो के बाद अब इटली लौटेंगे स्टार फुटबॉलर ज्लाटन इब्राहिमोविक

यह हादसा उस हाईवे पर हुआ जो इटली को फ्रांस और अन्य छुट्टियां मनाने वाले रिसॉर्ट से जोड़ता है. यह घटना बुधवार को होने वाली बड़ी इतालवी छुट्टी फेर्रागोस्तो के एक दिन पहले हुई है. पुल पर यातायात सामान्य दिनों की तुलना में अधिक होगा, क्योंकि कई इतालवी इस दौरान समुद्र तटों या पर्वतीय इलाकों में जाते हैं. एएनएसए संवाद समिति ने कहा कि अधिकारियों को संदेह है कि ढांचागत कमजोरी की वजह से पुल आज ढहा गया.

गृह मंत्री मात्तेओ सालविनी ने कहा कि घटनास्थल पर 200 दमकलकर्मी मौजूद हैं. सालविनी ने ट्विटर पर लिखा, ” हम जिनोवा में पुल हादसे में पल-पल की स्थिति पर नजर रख रहे हैं.” दमकलकर्मियों ने बताया कि गैस लाइनों के बारे में चिंता है. एएनएसए संवाद समिति द्वारा जारी तस्वीर में दिखाया गया है कि पुल के दोनों हिस्सों के बीच बड़ी खाई है.

– मोरंडी पुल का 1967 में उद्घाटन किया गया था
– यह 90 मीटर ऊंचा और महज एक किलोमीटर लंबा है
– यह पुल फ्रांस की ओर जाने वाले ए 10 हाईवे और उत्तर मिलान की ओर जाने वाले ए 7 हाईवे को जोड़ने वाला मुख्य मार्ग है.