नई दिल्ली: अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी आज (24 अक्टूबर) को एक दिन के दौरे पर भारत पहुंच गए हैं.भारत में अपने दौरे पर वह कई अहम मुद्दों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से बात करेंगे.Also Read - DDE Corridor: दिल्ली से देहरादून सिर्फ 2.30 घंटे में, मेरठ से लेकर हरिद्वार तक चमकेगी बीच के शहरों की सूरत

गनी अफगानिस्तान में सुरक्षा और स्थायित्व को बढ़ावा देने और आतंकवाद की समस्या के खात्मे के प्रयासों को लेकर आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ विस्तृत बातचीत करेंगे. विदेश मंत्रालय ने कहा कि अफगान राष्ट्रपति प्रधानमंत्री मोदी के निमंत्रण पर एक दिन के कामकाजी दौरे पर भारत आ रहे हैं. Also Read - Covid-19 New Variant Omicron: नए वैरिएंट ने मचाई दहशत, पीएम मोदी की अहम बैठक, सतर्कता बरतने का दिया निर्देश

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल ने 16 अक्तूबर को अपने काबुल दौरे में गनी को मोदी की ओर से आमंत्रित किया था. एक आधिकारिक बयान में कहा गया कि यात्रा के दौरान राष्ट्रपति गनी अपने भारतीय समकक्ष से मिलेंगे और प्रधानमंत्री के साथ प्रतिनिधिमंडल स्तर की बातचीत करेंगे. प्रधानमंत्री उनके सम्मान में दोपहर में भोज भी देंगे. Also Read - Farm Laws Repealed: हरियाणा के सीएम खट्टर ने की पीएम मोदी से मुलाकात, MSP पर कह दी बड़ी बात

बयान में कहा गया, दोनों पक्षों के पास बहुआयामी द्विपक्षीय सामरिक भागीदारी के व्यापक क्षेत्र का जायजा लेने का मौका होगा, जिसमें नव विकास भागीदारी शामिल है. दोनों पक्ष  अफगानिस्तान में शांति, सुरक्षा, स्थायित्व एवं समृद्धि के साझा उद्देश्य को बढ़ावा देने और आतंकवाद की समस्या से लड़ने के प्रयासों को लेकर विचार विमर्श करेंगे तथा समन्वय स्थापित करेंगे. दोनों देश परस्पर हित के क्षेत्रीय एवं वैश्विक मुद्दों पर भी चर्चा करेंगे.

Chinese official warns world leaders for meeting Dalai Lama | दलाई लामा से मिलना ‘गंभीर अपराध’, चीन ने दुनिया के नेताओं को चेताया

Chinese official warns world leaders for meeting Dalai Lama | दलाई लामा से मिलना ‘गंभीर अपराध’, चीन ने दुनिया के नेताओं को चेताया

दोनों देशों के बीच हाल में हुए उच्च स्तर के द्विपक्षीय आदान प्रदान को इस यात्रा से और मजबूती मिलेगी. गौरतलब है कि हाल में अफगानिस्तान के मुख्य कार्यकारी अब्दुल्ला अब्दुल्ला और विदेश मंत्री सलाहुद्दीन रब्बानी द्विपक्षीय सामरिक भागीदारी परिषद की बैठक के लिए भारत आए थे, जिसकी सह अध्यक्षता विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने की थी. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज भी गनी से मुलाकात करेंगी. अफगान राष्ट्रपति विवेकानंद इंटरनेशनल फाउंडेशन (थिंक टैंक) में एक सभा को संबोधित भी करेंगे.