Afghanistan Crisis Update: काबुल की सत्ता पर काबिज होने के बाद तालिबान ने अब पंजशीर को कब्जा करने के लिए उस ओर बढ़ना शुरू कर दिया है. हालांकि, न 20 साल पहले तालिबान पंजशीर को हथिया सका था और नहीं लगता कि इस बार भी वहां अपनी हुकूमत चला सकेगा. इसकी वजह ये है कि पंजशीर घाटी पर विद्रोही पूरी तैयारी के साथ तालिबान को करारा जवाब देने को तैयार हैं. पंजशीर की तरफ बढ़ने के साथ ही तालिबान को करारा झटका लगा है. जानकारी मिली है कि पंजशीर में तैनात विद्रोहियों ने घात लगाकर हमला किया और 300 तालिबानियों को मार गिराया है.Also Read - Afghanistan: US ने काबुल में ड्रोन हमले को बताया भूल, माना 10 नागरिक मारे गए थे, IS आतंकी नहीं

मिली जानकारी के मुताबिक तालिबान ने कारी फसीहुद दीन हाफिजुल्लाह के नेतृत्व में पंजशीर पर हमला करने के लिए सैकड़ों लड़ाकों को भेजे थे, लेकिन बगलान प्रांत की अंदराब घाटी में घात लगाकर बैठे पंजशीर के विद्रोहियों ने उन पर हमला कर दिया और इस हमले में 300 तालिबानी लड़ाकों के मारे जाने की खबर है. इससे तालिबान का सप्लाई रूट भी ब्लॉक हो गया है. Also Read - चुनौतीपूर्ण दौर से गुजर रहा अफगानिस्तान, भारत पहले की तरह ही अफगानों के साथ खड़ा रहेगा: एस जयशंकर

अमरुल्लाह सालेह ने किया ट्वीट…
खुद को अफगानिस्तान का कार्यवाहक राष्ट्रपति घोषित कर चुके अमरुल्लाह सालेह ने ट्वीट किया है जिसमें उन्होंने लिखा है कि- ‘अंदराब घाटी के एम्बुश जोन में फंसने और बड़ी मुश्किल से एक पीस में बाहर निकलने के एक दिन बाद तालिबान ने पंजशीर के एंट्रेंस पर फोर्स लगा दी है. हालांकि इस बीच सलांग हाइवे को विद्रोही ताकतों ने बंद कर दिया ह. ये वे रास्ते हैं जिनसे उन्हें बचना चाहिए. फिर मिलते हैं.’ Also Read - Tim Paine के बयान से खफा Asghar Afghan ने लिखा खुला पत्र, 'हम टॉप-10 देशों से कंधे से कंधा मिलाकर खेल रहे...'

पंजशीर में तालिबान को जवाब देने को तैयार हैं 9000 सैनिक

पंजशीर में विद्रोहियों ने तालिबान को जवाब देने के लिए सेना तैयार कर रखी है और इनमें सबसे ज्यादा संख्या अफगान नेशनल आर्मी के सैनिकों की है. इस गुट का नेतृत्व नॉर्दन एलायंस ने चीफ रहे पूर्व मुजाहिदीन कमांडर अहमद शाह मसूद के बेटे अहमद मसूद कर रहे हैं. उनके साथ पूर्व उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह और बल्ख प्रांत के पूर्व गवर्नर की सैन्य टुकड़ी भी है.

कहा जा रहा है कि पंजशीर में अहमद मसूद ने लगभग 9000 विद्रोही सैनिकों को इकट्ठा किया है. न्यूज एजेंसी एएफपी ने बताया है कि इस इलाके में दर्जनों रंगरूट ट्रेनिंग एक्सरसाइज और फिटनेस प्रैक्टिस करते दिखे हैं और इन लड़ाकों के पास हम्वी जैसी गाड़ियां भी हैं.