इस्लामाबाद :पाकिस्तान और अफगानिस्तान के वरिष्ठ सैन्य और खुफिया अधिकारी क्षेत्र में स्थायी शांति सुनिश्चित करने के लिए कोशिशों को बढ़ाने पर सहमत हुए हैं. रावलपिंडी में पाकिस्तानी सेना के मुख्यालय में रविवार को हुई वार्ता में दोनों पक्ष इस सहमति पर पहुंचे. अफगान शिष्टमंडल की अगुवाई राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार हनीफ अतमर कर रहे थे और इसमें खुफिया विभाग के प्रमुख तथा अन्य अधिकारी शामिल थे. Also Read - पाकिस्‍तान, चीन मिलकर एक शक्तिशाली खतरा..., सही वक्‍त, जगह चुनने और माकूल जवाब का अधिकार हमारा है: आर्मी चीफ

बता दे कि अफगानिस्तान में हमलों के जिम्मेदार आतंकवादियों को पनाह नहीं देने को लेकर काबुल लगातार पाकिस्तान पर दबाव बना रहा है. हालांकि, पाकिस्तान इस आरोप से इनकार करता है. Also Read - पंजाब सरकार बढ़ाएगी पुलिस की आतंकवाद से निपटने की क्षमता, कैबिनेट ने ल‍िए कई फैसले

सोमवार सुबह सेना की ओर से जारी एक बयान में बताया गया कि पाकिस्तान के थलसेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा ने शिष्टमंडल से कहा कि हमें भरोसे की शुरूआत करनी चाहिए और एक दूसरे की एक इंच जमीन की भी लालसा नहीं रखनी चाहिए और न ही अपनी जमीन का इस्तेमाल एक दूसरे के खिलाफ करने देना चाहिए. Also Read - दिल्‍ली पुलिस का बड़ा खुलासा, कश्‍मीर में आतंकवाद के साथ खालिस्‍तान आंदोलन को हवा दे रही ISI

अफगानिस्तान में हमलों के जिम्मेदार आतंकवादियों को पनाह नहीं देने को लेकर काबुल लगातार पाकिस्तान पर दबाव बना रहा है. लेकिन पाकिस्तान ऐसे सभी आरोपों से हमेशा इनकार करता आ रहा है. (इनपुट: एजेंसी)