Coronavirus से आज पूरी दुनिया परेशान है. दुनिया भर में मृतकों का आंकड़ा लाखों में पहुंच चुका है. पर क्या कोरोना का अंत एक नए युद्ध की शुरुआत हो सकता है? विशेषज्ञ तो यही मान रहे हैं. Also Read - अमेरिका की बायोटेक्नोलॉजी कंपनी का दावा, कोरोना वायरस की दवा का मनुष्यों पर टेस्टिंग हुई शुरू

दरअसल, इस तरह के कयासों को तूल मिला अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो के बयान से. उन्होंने कहा है कि उनकी सरकार के पास इस बात के अहम सबूत हैं कि कोरोनवायरस की उत्पत्ति चीन के शहर वुहान में स्थित एक प्रयोगशाला में हुई थी, जहां पिछले दिसंबर में महामारी सबसे पहले सामने आई थी. Also Read - देश में 1.50 लाख के करीब पहुंची कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या, एक दिन में मिले 6,535 नए मामले, 147 की मौत

समाचार एंजेसी एफे के मुताबिक, पोम्पियो ने रविवार को एबीसी न्यूज से कहा, “इस बात के अहम सबूत हैं कि यह वुहान स्थित उस प्रयोगशाला से आया.” Also Read - Delhi-Ghaziabad Border : कोरोना के खतरे के चलते गाजियाबाद-दिल्ली बॉर्डर फिर हुआ सील, जाम में फंसी हजारों गाड़ियां

उन्होंने आगे कहा कि यह मानव निर्मित है और ‘बेहतरीन विशेषज्ञों को अब तक ऐसा लगा है कि यह मानव निर्मित है.’

पोम्पियो ने कहा, “मेरे पास इस पड़ाव पर इस बात पर अविश्वास करने का कोई कारण नहीं है.” हालांकि उन्होंने इस बयान के समर्थन में कोई सबूत नहीं दिया.

पोम्पियो ने कहा कि चीन का दुनिया को संक्रमित करने का इतिहास है. उन्होंने कहा कि चीन की प्रयोगशालाएं सफाई और सुरक्षा प्रक्रियाओं के मामले में घटिया स्तर की हैं.

जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के अनुसार, अमेरिका में सोमवार तक कोरोना के 1,158,040 मामले सामने आ चुके हैं और 67,682 मौतें हो चुकी हैं.
(एजेंसी से इनपुट)