तेहरान: ईरान के सर्वोच्च नेता ने कहा कि इस्लामिक गणराज्य द्वारा बुधवार को इराक में अमेरिकी सेना के ठिकानों पर मिसाइलें दागे जाने से अमेरिका के ‘‘चेहरे पर तमाचा’’ लगा है. अयातुल्ला अली खमनेई ने सरकारी टेलीविजन पर प्रसारित एक भाषण में कहा, ‘‘कल रात, चेहरे पर एक तमाचा लगा.’’ Also Read - ईरान के नातान्ज परमाणु इकाई में क्‍या हुआ? इसे ईरानी न्‍यूक्‍लीयर चीफ ने ‘परमाणु आतंकवाद’ करार दिया

इसके पहले उन्होंने संकल्प लिया था कि उस अमेरिकी ड्रोन हमले का बदला लिया जाएगा जिसमें ईरानी सैन्य कमांडर कासिम सुलेमानी की मौत हो गयी थी. ईरान ने देर रात इराक में अमेरिकी सेना के ठिकानों पर कई मिसाइलें दागीं. वाशिंगटन और तेहरान के अधिकारियों ने यह जानकारी दी. Also Read - US Capitol Lockdown: अमेरिकी संसद के बाहर कार ने पुलिस अधिकारियों को मारी टक्कर, यूएस कैपिटॉल में लगा लॉकडाउन

सर्वोच्च नेता ने कहा कि सुलेमानी की मौत के बाद महत्वपूर्ण मुद्दा यह है कि अब हमारा कर्तव्य क्या है? उन्होंने कहा, ‘‘एक महत्वपूर्ण घटना हुई है. बदला लेने का सवाल एक अलग मुद्दा है.’’ ईरानी नेता ने कहा, ‘‘इस रूप में सैन्य कार्रवाई उस मुद्दे के लिए पर्याप्त नहीं है. महत्वपूर्ण बात यह है कि इस क्षेत्र में अमेरिका की भ्रष्ट उपस्थिति समाप्त होनी चाहिए.’’ Also Read - डोनाल्ड ट्रंप के समय के एच-1बी वीजा प्रतिबंध समाप्त हुए, भारतीय आईटी पेशेवरों को राहत