वाशिंगटन. अमेरिका के वीजा का आवदेन करने वालों को अब अपने पुराने मोबाइल नंबरों, ईमेल आईडी और सोशल मीडिया का इतिहास समेत कई अन्य जानकारियां भी मुहैया करानी होंगी. ट्रंप प्रशासन ने वीजा प्रावधानों को कठिन बनाने की मुहिम शुरू की है. इससे देश के लिए खतरा बन सकने वाले लोगों को यहां आने से रोका जा सके. Also Read - Final US Presidential debate 2020 live: अमेरिका चुनाव में भी रोजगार है मुद्दा, जो बिडेन ने कहा- 1100 रुपये घंटा करेंगे न्यूनतम मजदूरी

फेडरल रजिस्टर पर प्रकाशित एक दस्तावेज के अनुसार गैर- शरणार्थी वीजा पर अमेरिका आने की इच्छा रखने वाले हर इंसान को सवालों की एक सूची का जवाब देना होगा. गृह विभाग का आकलन है कि नए नियमों से 7.1 लाख शरणार्थी वीजा आवेदक और 1.4 करोड़ गैर- शरणार्थी वीजा आवेदक प्रभावित होंगे. इसमें कहा गया है कि वीजा आवेदकों को विभिन्न सोशल मीडिया के यूजरनेम और मौजूदा फोन नंबर की जानकारी समेत पिछले पांच साल के दौरान इस्तेमाल किए सभी मोबाइल नंबरों की भी जानकारी देनी होगी. Also Read - चीन को जवाब! मालाबार युद्धाभ्यास में अमेरिका और जापान के अलावा अब ऑस्ट्रेलिया भी होगा शामिल

दस्तावेज में कहा गया है कि इनके अलावा लोगों से पिछले पांच साल के दौरान इस्तेमाल किए गए सारे ईमेल आईडी और विदेशी यात्राओं की जानकारी देनी होगी. उन्हें यह भी बताना होगा कि उन्हें किसी देश से निकाला तो नहीं गया था या उनके परिवार का कोई सदस्य आतंकवादी गतिविधियों में संलिप्त तो नहीं था. Also Read - US Presidential Election: डोनाल्‍ड ट्रंप बोले- जो बाइडेन एक भ्रष्ट राजनीतिज्ञ हैं

इस दस्तावेज को औपचारिक तौर परसंभवत: शुक्रवार को प्रकाशित किया जा सकता है. औपचारिक प्रकाशन के बाद लोगों को इसके बारे में सुझाव और टिप्पणी देने के लिए 60 दिन का समय दिया जाएगा.