वाशिंगटन: अमेरिकी वाणिज्य मंत्रालय (US Ministry of Commerce) ने चीन के अशांत शिनजियांग क्षेत्र में उइगर मुसलमानों और अन्य अल्पसंख्यकों को निशाना बनाने तथा उनके साथ दुर्व्यवहार करने के मामले में चीन की 28 संस्थाओं को सोमवार को काली सूची में डाला दिया. अमेरिका के वाणिज्य मंत्री विल्बर रोस ने इस फैसले की घोषणा की. इससे ये संस्थाएं अब अमेरिकी सामान नहीं खरीद पाएंगी.

चीन के शिक्षा मंत्रालय ने दिया निर्देश, अब सिर्फ 5 कॉलेजों में होगी अंग्रेजी में एमबीबीएस की पढ़ाई

रॉस ने कहा कि अमेरिका ‘‘ चीन के भीतर जातीय अल्पसंख्यकों के क्रूर दमन को बर्दाश्त नहीं करता है और ना ही करेगा.’’ अमेरिकी फेडरल रजिस्टर (US Federal Register) में अद्यतन की गई जानकारी के अनुसार काली सूची में डाली कई संस्थाओं में वीडियो निगरानी कम्पनी ‘हिकविज़न’, कृत्रिम मेधा कम्पनियां (Artificial Intelligence Companies) ‘मेग्वी टेक्नोलॉजी’ और ‘सेंस टाइम’ शामिल हैं. यह जानकारी बुधवार को प्रकाशित की जाएगी.

इसी बीच चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने साम्यवादी शासन की 70वीं वर्षगांठ पर जबर्दस्त सैन्य ताकत के प्रदर्शन के साथ ही हुए देश के सबसे बड़े परेड की अध्यक्षता की और कहा कि कोई भी ताकत चीन को आगे बढ़ने से नहीं रोक सकता. चीन जब सबसे बड़ा परेड कर रहा था तब हांगकांग में सबसे हिंसक प्रदर्शनों में एक नजर आया. हजारों लोकतंत्र समर्थक प्रदर्शनकारियों ने चीन के झंडे जलाये, स्वायत्तता, सार्वभौमिक मताधिकार, सभी लोगों को इस क्षेत्र की विधायिका के चुनाव में लड़ने की आजादी की मांग की. शी ने कहा, ‘‘ कोई भी ताकत चीन के दर्जे को हिला नहीं सकती है, चीन लोगों और राष्ट्र को आगे बढ़ने से रोक नहीं सकती.’’

चीनी राष्ट्रपति ने कहा, ‘‘पिछले 70 वर्षों में बड़ी उपलब्धियां हासिल करने वाले चीनी लोग और चीनी राष्ट्र निश्चित तौर पर दो सदियों के लक्ष्यों और राष्ट्रीय कायाकल्प के चीनी सपने को साकार करने की अपनी यात्रा तक पहुंचने में और अधिक खूबसूरत अध्याय जोड़ेंगे.’’

अमेरिकी सीनेटर से बोले इमरान खान- कश्मीर में स्थिति बदलने तक भारत से कोई वार्ता नहीं