इस्लामाबाद: पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने पुष्टि की है कि अमेरिका से निर्वासित लोगों के प्रत्यावर्तन संबंधी विवाद के कारण अमेरिका ने पाकिस्तान के तीन वरिष्ठ सरकारी अधिकारियों पर वीजा प्रतिबंध लगा दिया है.

पैट्रिक शानहन को रक्षा मंत्री बनाना चाहते हैं राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप: व्हाइट हाउस

डॉन न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, कुरैशी ने मंगलवार को नेशनल असेंबली की विदेशी मामलों की स्टेंडिंग कमेटी को बताया कि गृह मंत्रालय के तीन अधिकारियों पर अमेरिका ने वीजा प्रतिबंध लगाए हैं. कुरैशी ने कहा कि अमेरिकी प्रशासन 70 से ज्यादा पाकिस्तानी लोगों का निर्वासित करना चाहता था, लेकिन सरकार ने उनसे कानूनी औपचारिकताएं पूरी करने के लिए कहा. अमेरिका पिछले 18 महीनों में 100 से ज्यादा पाकिस्तानी लोगों को निर्वासित कर चुका है, जिन सभी को पाकिस्तान ने वापस स्वीकार कर लिया है. यह पहली बार है कि पाकिस्तानी प्रशासन निर्वासितों की प्रमाणिकता के सत्यापन पर जोर दे रहा है.

मोदी सरकार की बड़ी जीत, चीन ने हटाया अड़ंगा, मसूद अजहर ग्लोबल टेररिस्ट घोषित

विदेश मंत्रालय ने हालांकि स्पष्ट किया कि सामान्य रूप से अमेरिकी सरकार ने पाकिस्तानी नागरिकों पर कोई वीजा प्रतिबंध नहीं लगाया है. इस्लामाबाद में अमेरिकी दूतावास योग्य आवेदकों को लगातार वीजा दे रहा है.