नई दिल्लीः गुरुवार को अमेरिकी सीनेट ने सरकारी उपकरणों पर टिक टॉक के इस्तेमाल पर रोक लगा दी है. सीनेट ने सरकारी उपकरणों में टिक टॉक के इस्तेमाल पर रोक लगाने किले मतदान कराया था. व्हाइट हाउस ने कहा कि सुरक्षा के लिहाज से टिक टॉक एक बड़ा खतरा है इसलिए इस तरह के कदम उठाने जरूरी हैं. इस बीच राष्ट्रपति डोनॉल्ड ट्रंप ने एक ऑर्डर जारी करते हुए अमेरिकी कंपनियों को टिक टॉक के साथ ट्रांजक्शन बंद करने के लिए कहा है. इसके लिए उन्हें 45 दिन का समय दिया गया है. Also Read - अमेरिका में चुनावों से पहले व्हाइट हाउस में पहुंचा ये लिफाफा, जानें क्या मिला इसमें कि जांच करने लगी FBI

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने बाइट डाइंस के माध्यम से सभी तरह के ट्राजेक्श को खत्म करने के लिए कहा है. टिक टॉक को लेकर हाल ही में सीनेटर जोश हॉले संघीय कर्मचारियों को दिए गए सरकारी उपकरणों में टिक टॉक के इस्तेमाल को रोकने के लिए एक विधेयक पेश किया था. इसे सभी लोगों ने सर्वसम्मति से मतदान किया. आपको बता दें कि सुरक्षा कारण से ही भारत ने पहले ही टिक टॉक पर पूरी तरह से बैन लगा रखा है. Also Read - व्हाइट हाउस में पहुंचा सीलबंद लिफाफा, ट्रंप प्रशासन के खोलने पर मचा हड़कंप, जांच में जुटी FBI

दो दिन पहले ही अमेरिकी राष्ट्रपति ने चेतावनी देते हुए कहा था कि 15 सितंबर तक टिक टॉक अमेरिका में अपना कारोबार बंद कर दे. सदन में विधेयक पारित होने के बाद अब माना जा रहा है कि अमेरिका में टिक टॉक के खिलाफ जल्द ही कानून लाया जा सकता है.