वाशिंगटन: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि वह अंतहीन युद्ध लड़ रही अमेरिकी सेना को वापस बुलाना चाहते हैं. उन्होंने कहा कि 2016 में राष्ट्रपति पद के चुनाव के दौरान उन्होंने जो वादे किए थे, उनमें से यह भी एक था. ट्रंप ने सोमवार को व्हाइट हाउस में कहा, ‘‘ हम अपने सैनिकों को वापस यहां बुलाना चाहते हैं. कई वर्ष हो गए हैं, कई मामलों में तो कई दशक का वक्त निकल गया. हम चाहते हैं कि सैनिक वापस आ जाएं. मैं इसी मुद्दे पर चुना गया था. अगर आप मेरे पहले के भाषणों को देखेंगे तो पाएंगे कि मैंने कहा है कि हम इन अंतहीन युद्ध से अपने सैनिकों को वापस बुलाना चाहते हैं.’’

एक दिन पहले ही व्हाइट हाउस ने सीरिया की उत्तरी सीमा से अमेरिकी सैनिकों को वापस बुलाने की घोषणा की थी. अमेरिका के इस कदम से इस लड़ाई में कुर्द अकेले रह गए हैं जो आईएसआईएस के खिलाफ लड़ाई में अमेरिकी सेना का प्रमुख सहयोगी थे. वर्ष 2016 में राष्ट्रपति चुनाव में ट्रंप ने वादा किया था कि वह सीरिया और अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों को वापस बुला लेंगे. उन्होंने कहा कि सीरिया में सैनिक लड़ नहीं रहे बल्कि पुलिस की तरह काम कर रहे हैं.

अमेरिका के साथ परमाणु वार्ता से पहले नार्थ कोरिया ने किया बैलेस्टिक मिसाइल का परीक्षण, कहा- बाहरी खतरों से है डर

इसी दौरान अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प पर सत्ता के कथित दुरुपयोग मामले में महाभियोग की जांच के बीच राष्ट्रपति ने अपने समर्थकों से कहा था, ‘‘ हमारा देश दांव पर है, ऐसा पहले कभी नहीं हुआ.’’ ट्रम्प ने शनिवार को ट्विटर पर एक वीडियो पोस्ट कर डेमोक्रेटिक सांसदों पर जांच का आक्रामक तरीका अपनाने का आरोप लगाया.

गौरतलब है कि डेमोक्रेट सांसदों ने ट्रम्प पर 2020 राष्ट्रपति चुनाव के उनके प्रमुख प्रतिद्वंद्वियों में से एक जो बिडेन का नुकसान पहुंचाने के लिए यूक्रेन के राष्ट्रपति से हाथ मिलाने का आरोप लगाया है. ट्रम्प ने कहा, ‘‘ डेमोक्रेट से अमेरिकियों के अधिकारों को खतरा है. वे आपके अधिकार छीनना चाहते हैं, वे आपकी स्वास्थ्य सेवाएं छीनना चाहते हैं, वे आपका मताधिकार, आपकी आजादी छीनना चाहते हैं.’’

अमेरिका के 14 सांसदों ने मोदी से कश्मीर में संचार सुविधाएं बहाल करने का किया अनुरोध

ट्रम्प ने कहा, ‘‘ हमारा देश इस तरह दांव पर है, जैसे पहले कभी नहीं था. ये सब बेहद आसान है. वे मुझे रोकना चाहते हैं क्योंकि मैं आपके लिए लड़ रहा हूं, लेकिन मैं यह कभी नहीं होने दूंगा.’’ इसके बाद एक अन्य ट्वीट में ट्रम्प ने उनके खिलाफ महाभियोग की जांच को फिर साजिश करार दिया