नई दिल्ली: गलवान घाटी में भारत और चीन के बीच हुई झड़प के बाद से दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया है. इस झड़प में भारते बीस जवान शहीद हो गए थे. भारत ने इस पर कड़ी प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए चीन को यह संदेश दिया था कि भारत कभी भी अपनी संप्रभुता और अखंडता से समझौता नहीं करेगा. गलवान में हुई झड़प में चीन के भी कई सैनिक मारे गए लेकिन अभी तक उसने इस बात का खुलासा नहीं किया है कि उसके कितने सैनिक मारे गए. इस बीच चीनी सरकार ने पीएम मोदी के 18 जून वाले भाषण को अपने सोशल मीडिया से हटवा दिया है. Also Read - कांग्रेस का सवाल- भारतीय सेना LAC पर हमारी ही सरजमी से क्यों हट रही है पीछे, क्या पीएम मोदी के शब्दों के मायने नहीं?

India China Ladakh Border Tension Also Read - चीन से तनाव के बीच बॉर्डर पर तेजी से इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलप कर रहा है भारत, राजनाथ सिंह ने की समीक्षा

चीन ने सिर्फ पीएम मोदी के ही बयान को नहीं बल्कि उसने भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता के बयान को भी सोशल मीडिया से रिमूव कर दिया है. भारतीय दूतावास के अधिकारियों ने जानकारी दी कि विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव की टिप्पणी को 18 जून को ‘साइना वेइबो’ पर बने दूतावास के अकाउंट से हटा दिया गया. उन्होंने बताया कि इसके बाद भारतीय अधिकारियों ने 19 जून को श्रीवास्तव की टिप्पणी के स्क्रीन शॉट को दोबारा प्रकाशित किया. Also Read - Video: चीन बॉर्डर के पास दिखी इंडियन एयरफोर्स की ताकत, रात में किए ऑपरेशन

India China Border Conflict

आपको बता दें कि साइनो वेइबो चीन में एक सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म है जो कि ट्वीटर की तरह काम करता है. चीन में इसे लाखों लोग यूज करते हैं. चीन के नागरिकों के अलावा चीन में स्थित विभिन्न दूतावास के लोग भी इसका इस्तेमाल करते हैं. चीनी नेताओं से बात करने के लिए पीएम मोदी ने भी इस पर अकाउंट बना रखा है.