कुआलालम्पुर : मलेशिया के सुल्तान मोहम्मद पंचम ने इस्लामिक समूहों के विरोध के बावजूद अटॉर्नी जनरल के पद पर भारतीय मूल के एक वकील की नियुक्ति पर मुहर लगा दी है. सुल्तान ने मलेशिया के सभी लोगों से यह सुनिश्चित करने की अपील की है कि टॉमी थॉमस की नियुक्ति से कोई धार्मिक या नस्लीय संघर्ष ना होने पाए क्योंकि नस्ल और धर्म की परवाह किए बगैर प्रत्येक मलेशियाई नागरिक से निष्पक्ष व्यवहार होना चाहिए. गौरतलब है कि इस्लामिक समूह यह पद किसी मुस्लिम व्यक्ति को देने की मांग कर रहे हैं. Also Read - मुस्लिमों का विरोध फिर भी मलेशिया के नए अटॉर्नी जनरल बने भारतीय मूल के वकील

शाही महल से जारी एक बयान के अनुसार, सुल्तान मोहम्मद पंचम ने मौजूदा अटॉर्नी जनरल मोहम्मद अपांडी अली की सेवाओं को समाप्त करके उनकी जगह टॉमी थॉमस को नियुक्त किया है. थॉमस 55 वर्षों में इस पद पर नियुक्त पहले अल्पसंख्यक व्यक्ति हैं. मलेशिया की तीन करोड़ 10 लाख जनसंख्या की दो तिहाई आबादी का प्रतिनिधित्व करने वाले सजातीय समूह ने मांग की है कि यह शीर्ष कानूनी पद इस्लाम की रक्षा करने के लिए किसी मुस्लिम व्यक्ति को ही दिया जाए. शाही महल से जारी बयान में कहा गया कि सुल्तान ने मलेशिया के सभी लोगों से यह सुनिश्चित करने का अनुरोध किया है कि थॉमस की नियुक्ति से कोई धार्मिक या नस्लीय संघर्ष ना हों क्योंकि राज्य नस्ल और धर्म की परवाह किए बगैर प्रत्येक नागरिक से निष्पक्ष व्यवहार की अपेक्षा करता है.
(इनपुट एजेंसी)