पेशावर : पाकिस्तान (Pakistan) में धार्मिक अल्पसंख्यकों के साथ कैसा व्यवहार होता है यह पूरी दुनिया जानती है. जबरन धर्म परिवर्तन और उनकी बहू-बेटियों को उठाकर ले जाना व जबरदस्ती निकाह करना पाकिस्तान में आम बात है. इसी तरह से हिंदुओं, सिख और ईसाई समुदाय के लोगों को सरेआम गोली मारने की घटनाएं भी पाकिस्तान में अक्सर सामने आती रहती हैं. ऐसा ही कुछ गुरुवार को पेशावर में हुआ, जहां अज्ञात बंदूकधारियों ने एक जानेमाने सिख हकीम की गोली मारकर हत्या कर दी.Also Read - भारत-पाकिस्तान मैच के बाद खिलाड़ियों के भाईचारे से प्रभावित हैं मैथ्यू हेडन

पुलिस ने बताया कि 45 वर्षीय हकीम सरदार सतनाम सिंह (खालसा) अपने क्लीनिक पर थे तभी हमलावर उनके केबिन में घुस गए और गोलियां चला दीं. पुलिस ने कहा कि सरदार सतनाम सिंह को चार गोलियां लगीं और उनकी मौके पर मौत हो गई. हमलावर मौके से फरार होने में सफल रहे. Also Read - भारत को 10 विकेट से हरा टी20 विश्व कप जीतने का प्रबल दावेदार बन गया है पाकिस्तान: विलियमसन

पेशावर में सिख समुदाय के प्रतिष्ठित सदस्य सरदार सतनाम सिंह यहां के चरसद्दा रोड पर क्लीनिक चलाते थे. हालांकि, एक्सप्रेस ट्रिब्यून अखबार ने खबर दी है कि सरदार सतनाम सिंह को घायल अवस्था में खैबर पख्तूनखवा प्रांत की राजधानी के लेडी रीडिंग अस्पताल ले जाया गया, जहां उनकी मौत हो गई. पुलिस ने बताया कि सतनाम सिंह एक दिन पहले ही हासन अब्दाल से पेशावर पहुंचे थे. Also Read - पाकिस्तान के खिलाफ प्लेइंग इलेवन चुनने में टीम इंडिया से हुई दो बड़ी गलतियां; पूर्व ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर ने कही ये बात

पुलिस मौके पर पहुंची और इलाके की घेराबंदी कर ली. हत्या के कारणों का अभी पता नहीं चला है. किसी ने हमले की जिम्मेदारी अभी तक नहीं ली है. पेशावर में करीब 15,000 सिख रहते हैं, जिनमें अधिकतर कारोबार करते हैं और कुछ फार्मेसी चलाते हैं.

पुलिस आतंकवाद की संभावना समेत विभिन्न पहलुओं से मामले की जांच कर रही है. (इनपुट पीटीआई से)