काठमांडू: दक्षिणी नेपाल में कई जगह भीषण आंधी-तूफान आने से कम से कम 29 लोगों की मौत हो गई और 600 अन्य लोग घायल हुए हैं. अधिकारियों ने सोमवार को बताया कि रविवार शाम बारा और परसा जिलों के गांवों में आंधी-तूफान आया. राजधानी काठमांडू से 128 किलोमीटर दक्षिण में स्थित बारा जिले में तूफान से 28 लोगों की जान चली गई, जबकि परसा जिले में एक व्यक्ति की मौत हुई है. परसा जिला पुलिस कार्यालय के अनुसार हताहतों की संख्या बढ़ सकती है.

प्रांत 2 सरकार ने केंद्रीय सरकार से प्रभावित इलाकों में आपात स्थिति घोषित करने की अपील की है. वहीं, प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली ने लोगों के मारे जाने की घटना पर दुख व्यक्त किया और मृतकों के परिजन के प्रति समवेदना भी जाहिर की. उन्होंने प्रभावित इलाकों का दौरा भी किया.

प्रांत 2 के अटॉर्नी जनरल दीपेन्द्र झा के अनुसार घायल हुए लोगों में से अधिकतर लोग बारा की फेटा ग्रामीण नगर पालिका के फेटा और भुलाही भरवलिया इलाकों से हैं. नेपाल में मानसून के मौसम में भूस्खलन से हर वर्ष सैकड़ों लोग मारे जाते हैं, लेकिन वसंत के मौसम तूफान से इतने लोगों का हताहत होना असामान्य बात है.

अधिकारियों ने बताया कि सेना के जवानों और पुलिसकर्मियों को राहत एवं बचाव कार्य में लगाया गया है. प्रांत 2 मंत्रिपरिषद ने सोमवार को आपात बैठक की. बैठक में पीड़ितों के परिवारों को 3,00,000 रुपए सहित राहत पैकेज के साथ-साथ टेंट, खाद्य पदार्थ, चिकित्सा आपूर्ति आदि भी मुहैया कराने का फैसला किया गया.