Also Read - UPDATE, अफगानिस्तान में गुरुद्वारे पर हुए आतंकवादी हमले में 27 लोगों की मौत, 8 घायल

कैनबरा, 3 मार्च | इराक में आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) के आतंकवादियों से लड़ने के लिए ऑस्ट्रेलिया 300 अतिरिक्त सैनिक भेजेगा। प्रधानमंत्री टोनी एबॉट ने मंगलवार को इसकी घोषणा की। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, ये सैनिक न्यूजीलैंड के साथ संयुक्त प्रशिक्षण मिशन के तहत भेजे जाएंगे। इसके साथ ही इराक में मौजूद ऑस्ट्रेलियाई सैनिकों की संख्या 500 हो जाएगी, क्योंकि 200 सैनिक वहां पहले से ही मौजूद हैं। यह भी पढ़ें–‘जेहादी जॉन को जिंदा पकड़ा जाए Also Read - काबुल में आतंकियों ने गुरुद्वारे में घुसकर किया हमला, 11 की हुई मौत, ISIS ने ली जिम्मेदारी

न्यूजीलैंड ने पिछले सप्ताह ही कहा था कि वह इराक में अपने 143 सैनिक भेजेगा। न्यूजीलैंड के प्रधानमंत्री जॉन की ने देश की संसद को बीते मंगलवार को इस बारे में जानकारी दी थी और इसके भी संकेत दिए थे कि ऑस्ट्रेलिया भी इराक में अतिरिक्त सैनिक भेज सकता है। इसकी पुष्टि करते हुए एक सप्ताह बाद ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री एबॉट ने कहा कि ऑस्ट्रेलियाई सुरक्षा बल पहले ही आईएस के खिलाफ लड़ाई में सफल रहे हैं। लेकिन इराकी सुरक्षा बलों को प्रशिक्षण मुहैया कराने के लिए ऑस्ट्रेलियाई सुरक्षा बलों की अतिरिक्त सहायता की आवश्यकता है। Also Read - बेटियों का ख्याल रखकर सेल्फ आइसोलेशन के दिन बिता रहे हैं डेविड वार्नर, नाम रखा Bulls Daycare

एबॉट ने कहा, “हमने आईएस के विस्तार को रोक दिया है, लेकिन इराक के सुरक्षा बलों की क्षमता को बढ़ाने के लिए उन्हें अतिरिक्त सहायता मुहैया कराने की आवश्यकता है, ताकि वे आईएस द्वारा कब्जाए गए भूभाग पर दावा कर सकें।” एबॉट ने यह भी कहा कि जैसा कि पहले से इराक में मौजूद 200 ऑस्ट्रेलियाई सैनिक इराकी सुरक्षा बलों को प्रशिक्षण मुहैया करा रहे हैं, उसी तरह इन अतिरिक्त 300 सैनिकों की भूमिका भी लड़ाकू नहीं, बल्कि परामर्शकारी होगी।