Gay-marriaeg Also Read - India vs Australia 4th Test: रोहित शर्मा को अपने शॉट पर आउट होने का नहीं कोई पछतावा, बोले- ऐसे ही खेलूंगा

Also Read - कोराना की वजह से जारी की गईं S*x गाइडलाइंस, कहा- सोलो सेक्स ही बेहतर...

केनबरा 24 मई: ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री टोनी एबॉट ने आयरलैंड में समलैंगिक विवाह के लिए कराए गए जनमत संग्रह के नतीजे सकारात्मक आने के बाद ऑस्ट्रेलिया में ऐसी किसी भी संभावना से इंकार किया। ‘एबीसी’ द्वारा रविवार को जारी रपट के अनुसार, प्रधानमंत्री ने कहा, “विवाह से संबंधित सवाल राष्ट्रमंडल संसद में लंबित हैं। आयरलैंड में इस मुद्दे पर जनमत संग्रह इसलिए हुआ, क्योंकि वहां संविधान में इस आशय के संशोधन के लिए प्रस्ताव था। लेकिन मुझे नहीं लगता कि ऑस्ट्रेलिया में कोई इस दिशा में संविधान में परिवर्तन की बात कर रहा है।” यह भी पढ़े:आयरलैंड में समलैंगिक विवाह के लिए जनमत संग्रह शुरू Also Read - India vs Australia: रोहित-पंत विवाद से पहले टीम इंडिया ने दो और बार तोड़ा था कोविड प्रोटोकॉल

वहीं, ऑस्ट्रेलियन कैपिटल टेरिटेरी से लिबरल पार्टी के सीनेट सदस्य जेद सेसेल्जा ने कहा कि हालांकि वह समलैंगिक विवाह के समर्थक नहीं हैं, लेकिन देश में इस पर जनमत संग्रह कराना वाजिब होगा।

सेसेल्जा ने कहा, “संसद द्वारा इस पर मतदान की आवश्यकता है और टोनी एबॉट को अपनी पार्टी को इस पर मतदान करने की अनुमति देनी चाहिए। प्रेम किसी तरह का भेद नहीं करता और इस मामले में कानूनी तरीके से भी असमानता नहीं होनी चाहिए।” गौरतलब है कि आयरलैंड में समलैंगिक विवाह के मुद्दे पर शुक्रवार को कराए गए जनमत संग्रह में वहां के लोगों ने इसके पक्ष में मतदान किया। पक्ष में सबसे अधिक वोट राजधानी डबलिन में पड़े। वहां की सरकार ने इसका स्वागत किया है, जिसके बाद अब संविधान में परिवर्तन किए जाएंगे, ताकि समलैंगिक जोड़ों को भी कानूनी वैवाहिक अधिकार मिल सकें।