ढाकाः बांग्लादेश के अर्थशास्त्री और नोबेल पुरस्कार विजेता मोहम्मद यूनुस को उनकी कंपनी में काम करने वाले कर्मचारियों की बर्खास्तगी को लेकर सुनवाई के दौरान अदालत में पेश होने में विफल रहने के बाद गिरफ्तारी वारंट जारी किया गया है. अधिकारियों ने गुरुवार को यह जानकारी दी. ढाका की एक अदालत के एक न्यायाधीश ने बुधवार को यह आदेश जारी किया.

तेजस के बाद अब देश की 150 ट्रेनों और 50 रेलवे स्टशनों को प्राइवेट सेक्टर को देने में जुटी सरकार

अदालत के क्लर्क एम. नूरुज्जमां ने एएफपी को बताया कि ‘ग्रामीण कम्युनिकेशन्स’ (जीसी) के बर्खास्त कर्मचारियों ने शिकायत दर्ज कराई है कि उन्हें कंपनी से निकाल दिया गया क्योंकि उन्होंने एक ट्रेड यूनियन की स्थापना की. नूरुज्जमां ने बताया कि जीसी के अध्यक्ष यूनुस सुनवाई के दौरान अदालत में पेश नहीं हुए क्योंकि वह विदेश में थे.

PMC घोटाले में वित्त मंत्री ने कहा- सरकार का इससे कोई लेना देना नहीं, RBI के अंडर में आता है को-ऑपरेटिव बैंक

कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी और एक वरिष्ठ प्रबंधक अदालत में पेश हुए और उन्हें जमानत मिल गई. यूनुस के वकील काजी इरशादुल आलम ने एएफपी को बताया, ‘‘वह (यूनुस) अदालत में पेश होने के लिए कोई भी सम्मन मिलने से पहले ही बांग्लादेश से बाहर चले गये थे. जैसे ही वह लौटते हैं, उचित कानूनी कदम उठाया जाएगा.’’