दार अस सलाम (तंजानिया): तंजानिया के भारतवंशी अरबपति मोहम्मद देवजी अपहरणकर्ताओं के चंगुल से मुक्त होने के बाद सुरक्षित घर लौट चुके हैं. यह जानकारी पुलिस ने दी. उनको नौ दिन पहले जिम के बाहर से कुछ बंदूकधारियों ने अगवा कर लिया था. देवजी (43) एमईटीएल समूह के सीईओ हैं. उनको 11 अक्टूबर को अज्ञात लोगों ने तब अगवा कर लिया था, जब वह तंजानिया की आर्थिक राजधानी दार अस सलाम में सुबह के व्यायाम से लौट रहे थे. Also Read - तंजानिया: गिरजाघर में प्रार्थना सभा के दौरान मची भगदड़ में 20 की मौत

अपहरणकर्ताओं की गिरफ्त से मुक्त होने के बाद कारोबारी ने अपनी कंपनी अकाउंट से एक ट्वीट किया, ‘मैं सुरक्षित घर लौट चुका हूं.’ उन्होंने तंजानिया पुलिस और दुनियाभर में उनके लिए प्रार्थना करने वाले सभी लोगों को धन्यवाद दिया. तंजानिया के पूर्व सांसद देवजी देश के प्रमुख व प्रभावशाली कारोबारी हैं. फोर्ब्स पत्रिका ने उनको 1.5 अरब डॉलर की संपत्ति के साथ अफ्रीका का सबसे कम उम्र का अरबपति बताया है. Also Read - हाशिये पर पड़े 50 फीसदी लोगों की संपत्ति के बराबर है अकेले 9 अमीरों की दौलत

उनकी कंपनी एमईटीएल का कारोबार अफ्रीका के छह देशों में हैं. देवजी के गायब होने की घटना अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सुर्खियों में रही. उनके परिवार ने उनको बचाने की सूचना देने वालों को एक अरब तंजानियाई शिलिंग्स (4,40,000 डॉलर) का इनाम देने की घोषणा की थी. तंजानिया के पर्यावरण मंत्री और देवजी के करीबी मित्र जैन्युअरी माकंबा ने ट्वीट किया कि वह शनिवार को सुबह उनके घर गए. मंत्री ने कहा, “अपहरणकर्ताओं ने उनके हाथ-पैर बांध दिए थे. इसलिए रस्सी के निशान को छोड़ बाकी वह स्वस्थ लग रहे थे. देवजी दो बार सांसद रहे. उन्होंने पारिवारिक कारोबार को अधिक समय देने के लिए 2015 में संसद सदस्य पद से इस्तीफा दे दिया था. Also Read - कश्मीर: अपहरणकर्ता के चंगुल से महिला को मुक्त कराया, आरोपी गिरफ्तार