पेशावर: पाकिस्तान के अशांत खैबर पख्तूनख्वा प्रांत में एक भीड़-भाड़ वाले बाजार में मदरसे के पास शुक्रवार को हुए शक्तिशाली बम विस्फोट में कम से कम 30 लोगों की मौत हो गई जबकि 40 से ज्यादा लोग घायल हो गए. अधिकारियों ने बताया कि कबायली जिले और कजई के कलाया इलाके में शिया इमामबाड़ा के पास जुमा बाजार में एक बाइक में विस्फोटक लगाया गया था.

अस्पतालों में आपात स्थिति
अधिकारियों के मुताबिक जिस समय विस्फोट हुआ, वहां बाजार में खासी भीड़ थी लोग गर्म कपड़े खरीद रहे थे. जियो न्यूज ने जिला प्रशासन के अधिकारियों के हवाले से बताया कि विस्फोट में कम से कम 30 लोगों की मौत हो गई जबकि 40 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं. अधिकारियों ने बताया कि हताहत हुए लोगों में ज्यादातर अल्पसंख्यक शिया मुसलमान हैं जिन्हें इलाके में पहले भी निशाना बनाया गया है. अधिकारियों ने कहा, ‘‘मृतकों में तीन बच्चे भी शामिल हैं.

पाकिस्तान के कराची में चीनी वाणिज्य दूतावास पर हमला, दो पुलिसकर्मियों की मौत

अमेरिका की विफलता है जिम्मेदार
रिमोट संचालित बम मोटरसाइकिल में लगा था.’’ इलाके को घेर लिया गया है और मामले की जांच चल रही है. हालात से निपटने के लिए क्षेत्र के अस्पतालों में आपात स्थिति की घोषणा की गई है. मानवाधिकार मंत्री शिरीन मजरी ने हमले के लिए अफगानिस्तान में अमेरिका की विफलता को जिम्मेदार ठहराया और चेतावनी दी कि पाकिस्तान को ऐसी और घटनाओं के लिए तैयार रहना चाहिए. फिलहाल किसी आतंकी समूह ने हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है लेकिन इस तरह के हमले अकसर तालिबान आतंकवादी करते रहे हैं. मदरसे के सामने विस्फोट और कराची में चीनी वाणिज्य दूतावास के बाहर हुए हमले के बाद प्रांत की पुलिस सतर्क हो गई है. ( इनपुट एजेंसी )

कैलिफोर्निया के जंगलों की आग: मरने वालों की संख्या बढ़ कर 83 हुई, 563 लोगों का नहीं मिला सुराग