वाशिंगटन: भारत और चीन के साथ विवाद को लेकर अमेरिका ने भी बयान दिया है. अमेरिका ने कहा कि भारत के 20 सैनिकों के मारे जाने पर हमें गहरा दुख है. इसके साथ ही अमेरिका ने ये भी कहा कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की इस पूरे मामले पर नजर है. उन्हें इस मामले की पूरी जानकारी है. व्हाइट हाउस के प्रेस सचिव ने अमेरिका की ओर से अधिकारिक बयान जारी किया है. Also Read - कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से किए 4 सवाल, कहा- क्या भारत के दावे को गलवान घाटी में कमजोर किया जा रहा है?

इसके साथ ही अमेरिकी विदेश मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने कहा,‘‘वास्तविक नियंत्रण रेखा पर भारत और चीन की सेनाओं के बीच हालात पर हम करीब से नजर रख रहे हैं.’’ उन्होंने कहा,‘‘भारतीय सेना ने कहा है कि उसके 20 सैनिक मारे गए हैं, हम उनके परिजन के प्रति संवेदना व्यक्त करते हैं.’’ Also Read - भारत को मिला अमेरिका का समर्थन, माइक पॉम्पिओ बोले- चीन को भारत ने दिया सही जवाब

प्रवक्ता ने कहा कि भारत और चीन दोनों ही देशों ने तनाव कम करने की इच्छा जताई है और अमेरिका वर्तमान हालात के शांतिपूर्ण समाधान का समर्थन करता है. उन्होंने कहा,‘‘ राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बीच दो जून 2020 को फोन पर हुई बातचीत के दौरान दोनों नेताओं ने भारत और चीन सीमा के हालात पर चर्चा की थी.’’ Also Read - पाकिस्तान ने कहा- कुलभूषण जाधव ने अपील दायर करने से मना किया, भारत ने दावे को बताया ‘स्वांग’

गौरतलब है कि सोमवार रात पूर्वी लद्दाख में गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ हिंसक झड़प में भारतीय सेना के एक कर्नल सहित 20 सैनिक शहीद हो गए . पिछले पांच दशक से भी ज्यादा समय में सबसे बड़े सैन्य टकराव के कारण क्षेत्र में सीमा पर पहले से जारी गतिरोध और भड़क गया है.