वॉशिंगटन: यौन उत्पीड़न के आरोपों से घिरे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के पसंदीदा उम्मीदवार ब्रेट कावानाह आखिरकार जज बन गए. सेनेटरों ने उन्हें 50-48 के वोट से चुना. कावानाह पर कई महिलाओं ने यौन शोषण के आरोप लगाए हैं. उन पर सबसे पहले आरोप लगाने वाली प्रोफेसर क्रिस्टीन ब्लाजी फोर्ड ने सीनेट की न्यायिक समिति के समक्ष अपना मामला रखा था. हालांकि एफबीआई ने अपनी जांच में कावानाह को क्लीन चिट दे दी.Also Read - World News: अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव की बहस से पहले संक्रमित थे ट्रंप, मगर फिर भी भाग लिया- पूर्व सहयोगी की किताब में दावा

क्रिस्टिन फोर्ड नाम की एक प्रफेसर ने कावानाह पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाते हुए कहा था कि करीब 36 साल पहले हाई स्कूल में एक पार्टी के दौरान कावानाह ने उनके कपड़े उतारने की कोशिश की थी. उधर, कावानाह ने इन आरोपों को खारिज किया था. जज कावानाह ने वाइट हाउस के जरिए जारी किए गए एक बयान में कहा था, ’35 साल पहले की यह कथित घटना कभी नहीं हुई. उस वक्त मुझे जानने वाले लोग जानते हैं कि ऐसा नहीं हुआ और उन्होंने ऐसा कहा भी है. यह दुर्भावनापूर्ण और स्पष्ट है.’ Also Read - PM Narendra Modi US Visit: प्रधानमंत्री मोदी के 7 साल और 7 बार अमेरिका यात्रा, जानें कब क्या हुआ खास

अमेरिकी सीनेट की न्यायिक मामलों से संबंधित समिति ने कहा था कि उसे उच्चतम न्यायालय के लिए नामित ब्रेट कावानाह पर लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों को लेकर एफबीआई की रिपोर्ट मिल गई हैअमेरिकी सीनेट की न्यायिक मामलों से संबंधित समिति ने कहा है कि उसे उच्चतम न्यायालय के लिए नामित ब्रेट कावानाह पर लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों को लेकर एफबीआई की रिपोर्ट मिल गई है. सीनेट के न्यायिक मामलों के अध्यक्ष चुक ग्रासली ने ट्वीट किया, ‘‘न्यायाधीश कावानाह के लिए एफबीआई की पूरक पृष्ठभूमि फाइल मिल गई है.’ Also Read - ट्रंप ने की बाइडेन की आलोचना, कहा- सेना की वापसी इतनी बुरी तरह कभी नहीं हुई

रिपब्लिकन सांसद तब एफबीआई से कावानाह की पृष्ठभूमि जांचने के लिए कहने को राजी हुए जब कावानाह पर आरोप लगाने वाली महिला क्रिस्टीन ब्लासी फोर्ड ने गत सप्ताह बयान दर्ज कराया कि कावानाह ने उसका तब यौन उत्पीड़न किया था जब वे हाईस्कूल में थे. कावानाह ने हालांकि आरोप से इनकार किया है. फोर्ड के वकीलों ने कहा कि उसे बयान के लिए सम्पर्क नहीं किया गया. यद्यपि एफबीआई ने दूसरी महिला देबोराह रमिरेज से बात की जिसने दावा किया है कि कावानाह ने उसका तब उत्पीड़न किया था जब वे कालेज में थे. कावानाह ने कहा है कि आरोप झूठा है.