ब्रासीलिया: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बृहस्पतिवार को ब्रिक्स देशों के शिखर सम्मेलन में नव विकास बैंक (एनडीबी) का भारत में क्षेत्रीय कार्यालय जल्द से जल्द खोलने का आग्रह किया. साथ ही वैश्विक आर्थिक वृद्धि को बढ़ावा देने में इस बहुपक्षीय वित्तीय संस्थान को पूरा समर्थन देने की पेशकश भी की. मोदी यहां ब्रिक्स देशों के 11वें शिखर सम्मेलन में आए हैं.

 

ब्रिक्स व्यापार परिषद और नव विकास बैंक के साथ एक संवाद को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि अगले शिखर सम्मेलन तक ब्रिक्स देशों के बीच आपसी व्यापार को 500 अरब डॉलर तक पहुंचाने का लक्ष्य हासिल करने के लिए ब्रिक्स व्यापार परिषद को आगे का खाका तैयार करना चाहिए. उन्होंने कहा कि इस प्रयास में हमारे बीच आर्थिक पूरकताओं की पहचान इस प्रयास में महत्वपूर्ण होगी. मोदी ने कहा कि मैं अनुरोध करता हूँ कि भारत में नव विकास बैंक के क्षेत्रीय कार्यालय की स्थापना का कार्य जल्द पूरा किया जाये. इससे हमारी प्राथमिकता के क्षेत्रों में परियोजनाओं को बढ़ावा मिलेगा.’’

उन्होंने वैश्विक आर्थिक वृद्धि को बढ़ावा देने में इस बहुपक्षीय वित्तीय संस्थान को पूरा समर्थन देने की पेशकश भी की. ब्रिक्स के साझा बयान के मुताबिक पांचों सदस्य देशों ने 2020 तक भारत और रूस में नव विकास बैंक के बचे हुए दोनों क्षेत्रीय खुल जाने की उम्मीद जतायी. बयान में कहा गया है कि बैंक मुख्यालय के मूल सिद्धांतों पर बने इसके क्षेत्रीय कार्यालय इसका परिचालन विस्तार करने में योगदान करेंगे और सभी सदस्य देशों के लिए अधिक तेजी से परियोजनाओं का पोर्टफोलियो तैयार करेंगे. बयान में नव विकास बैंक की अपने सदस्यों का विस्तार करने की प्रगति का भी उल्लेख किया गया है. बयान के मुताबिक नव विकास बैंक के सदस्यों का विस्तार बैंक की एक वैश्विक विकास वित्तीय संस्थान के तौर पर भूमिका को मजबूत करेगा.

आतंकवाद के कारण विश्व अर्थव्यवस्था को हुआ 1,000 अरब डॉलर का नुकसान: पीएम मोदी

प्रधानमंत्री मोदी ने ब्रिक्स समूह देशों और नव विकास बैंक से प्राकृतिक आपदाओं के दौरान भी मजबूती से टिके रहने वाले बुनियादी ढांचा खड़ा के करने के वैश्विक गठबंधन में शामिल होने का भी आग्रह किया. उन्होंने कहा कि ब्रिक्स व्यापार परिषद और नव विकास बैंक के बीच सहयोग समझौता दोनों संस्थानों के लिए लाभकारी होगा. मोदी ने कहा कि मैं यह कहते हुए अपनी बात समाप्त करूंगा कि ब्रिक्स आर्थिक सहयोग को मजबूत करने का हमारा सपना परिषद और नव विकास बैंक के पूरे सहयोग से ही साकार हो सकता है. नव विकास बैंक का मुख्यालय शंघाई में है. पहले इसे ब्रिक्स विकास बैंक कहा जाता था. इसमें ब्रिक्स समूह के सभी सदस्य देश ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका शामिल हैं.