सैंटियागो: चिली के राष्ट्रपति सेबेस्टियन पिनेरा के इस्तीफे और आर्थिक सुधारों की मांग के साथ शुक्रवार को 10 लाख से अधिक लोग सड़कों पर उतर आए. इसे अब तक का सबसे बड़ा प्रदर्शन कहा जा रहा है. यहां पिछले एक सप्ताह से हिंसक प्रदर्शन जारी हैं.

राष्ट्रपति ने ट्वीट करके प्रदर्शनकारियो से कहा कि उन्होंने “संदेश सुन लिया है.” साथ ही उन्होंने इन प्रदर्शनों को सकारात्मक और बदलाव का जरिया बताया है. सैंटियागो के गवर्नर कार्ला रुबिलर ने ट्विटर पर इसे “एक ऐतिहासिक दिन” करार देते हुए “नये चिली के सपने को दर्शाने वाले… एक शांतिपूर्ण मार्च” के तौर पर इसकी सराहना की.

रुबिलर ने कहा कि देश भर में एक लाख से अधिक लोगों ने प्रदर्शन किया, जबकि सैंटियागो के टाउन हॉल ने पुलिस के आंकड़ों का हवाला देते हुए राजधानी में मार्च करने वालों लोगों की संख्या 8.20 लाख बताई. चिली में लोग पिछले एक सप्ताह से बढ़ती सामाजिक-आर्थिक असमानता को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं. ये लोग कम मजदूरी और पेंशन, मंहगी स्वास्थ्य सेवाएं और शिक्षा तथा अमीर-गरीब के बीच बढ़ती खाई के खिलाफ आवाज उठा रहे हैं.