बीजिंग। चीन ने अरुणाचल प्रदेश सीमा के निकट तिब्बत में मानवरहित स्वचालित मौसम निगरानी केंद्र की स्थापना की है. मीडिया में चल रही खबरों के मुताबिक क्षेत्रीय संघर्ष की स्थिति में देश की सेना और विमानों और मिसाइलों के संचालन में मौसम संबंधी मदद के लिए इस स्टेशन की स्थापना की गई है.Also Read - जी-20 शिखर सम्मेलन 30 अक्टूबर को, पीएम मोदी अफगान संकट पर कर सकते हैं ये आह्वान

Also Read - Vaccine Century: कोरोना टीका बनाने वाली सात भारतीय कंपनियों के निर्माताओं से मिले पीएम मोदी, कई अहम मुद्दों पर हुई चर्चा

राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ा प्रोजेक्ट Also Read - आत्मनिर्भर भारत स्वयंपूर्ण गोवा कार्यक्रम: पीएम मोदी ने कहा- अब गोवा का मतलब विकास मॉडल भी है

सरकारी अखबार ‘ग्लोबल टाइम्स’ की खबर के मुताबिक तिब्बत के शाननान परिक्षेत्र अंतर्गत ल्हुंजे के युमई में इस केंद्र की स्थापना की गई है. तिब्बत मौसम ब्यूरो की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि यह केंद्र राष्ट्रीय सुरक्षा के लिहाज से मौसम संबंधी अहम मदद उपलब्ध कराएगा.इसमें कहा गया है कि इसके अलावा वह सीमा के विकास और सैनिकों और नागरिकों में सामंजस्य स्थापित करने में मददगार साबित होगा.

नौ घरों और 32 नागरिकों की रिहाइश वाला युमई जनसंख्या के लिहाज से चीन की सबसे छोटी टाउनशिप है.

डोकलाम पर लंबा विवाद

भारत के साथ चीन की अदावत जगजाहिर है. पिछले साल डोकलाम पर दोनों देशों के बीच विवाद लंबा खिंचा था. लंबी बातचीत के बाद ये मामला सुलझ सका था. करीब दो महीने तक दोनों देशों की सेनाएं आमने-सामने खड़ी थीं और कोई भी झुकने को तैयार नहीं था. चीन की तरफ से भारत को बर्बाद कर देने तक की धमकी आई लेकिन भारत डटा रहा.

चीन से युद्ध हुआ तो कैसे निपटेगी सेना? जानें 1962 के मुकाबले 2017 में कहां खड़ा है भारत

लेकिन हाल ही में दोनों देशों के बीच नरमी का वातावरण बना है. पीएम नरेंद्र मोदी पिछले महीने ही चीन की यात्रा पर गए थे और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग से उनकी द्विपक्षीय बातचीत भी हुई थी. इसने दोनों देशों के बीच रिश्तों में कुछ गर्मी पैदा की.