किंगदाऊ। चीन के एक विश्वविद्यालय ने समुद्र की गहराई में खोजबीन करवाने वाला एक अन्वेषी जहाज बनाया है, जिसे चीन के प्रमुख शहर शंघाई में लांच किया गया. समाचार एजेंसी ‘सिन्हुआ’ के मुताबिक, ओशन यूनिवर्सिटी ने मंगलवार को बताया कि डोंगफांघोंग नंबर-3 नाम का यह जलपोत 103 मीटर लंबा और 18 मीटर चौड़ा है. Also Read - भारत की मेजबानी में 30 नवंबर को एससीओ नेताओं की बैठक में भाग लेंगे चीन के प्रधानमंत्री

Also Read - भारत ने US से लीज पर लिए बेहद खतरनाक Predator Drones, चीन से निपटने को LAC पर हो सकती है तैनाती

इसका वजन 5,800 टन है. इसकी अधिकतम चाल 15 नॉटिकल माइल प्रति घंटा है. जहाज को इस साल के अंत में सेवा में लाया जाएगा. इसके माध्यम से सागर की गहराई में सर्वेक्षण किया जाएगा. 

नेतन्‍याहू-मोदी की दोस्ती से घबराया पाक, अलापा इस्लाम का राग

नेतन्‍याहू-मोदी की दोस्ती से घबराया पाक, अलापा इस्लाम का राग

Also Read - Chinese APP पर बैन से व्‍यथित चीन, भारत से सामान्य ट्रेड रिश्‍ते बहाल करने का किया आग्रह

इस वैज्ञानिक व अन्वेषी जलपोत के जरिये हवा, पानी और सागर तल का विश्लेषण करना संभव होगा.

इससे पहले 2500 टन और 3500 टन का डोंगफांघोंग का निर्माण क्रमश: 1960 और 1990 में चीन ने किया था, जिनकी सागरीय अनुसंधान में महती भूमिका रही है.