बीजिंग: चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने मंगलवार को चीन के “सुधारों और खुलेपन” की नीतियों को आगे बढ़ाने की प्रतिबद्धता जताई. हालांकि, उन्होंने चेतावनी दी कोई भी यह “हुक्म” नहीं दे सकता है कि हमें क्या करना चाहिये. शी ने चीन के सुधार एवं खुलेपन की नीति की 40वीं वर्षगांठ के अवसर पर यह बात कही. Also Read - भारत की मेजबानी में 30 नवंबर को एससीओ नेताओं की बैठक में भाग लेंगे चीन के प्रधानमंत्री

Also Read - भारत ने US से लीज पर लिए बेहद खतरनाक Predator Drones, चीन से निपटने को LAC पर हो सकती है तैनाती

चीन के राष्ट्रपति चिनफिंग ने दिवंगत चीनी नेता देंग शियोपिंग के कार्यकाल में दिसंबर 1978 में शुरू किये गये आर्थिक सुधारों को और आगे बढ़ाने की प्रतिबद्धता जताई है. साथ ही शी ने संकेत दिया कि एक दलीय प्रणाली में बदलाव नहीं होगा. चिनफिंग ने कहा, “चीन की सरजमीं पर समाजवाद का झंडा हमेशा लहराता रहा है.” चीन के राष्ट्रपति की यह टिप्पणी ऐसे समय आयी है जब उसका व्यापार और राजनयिक मोर्चे पर अमेरिका के साथ विवाद चल रहा है. Also Read - Chinese APP पर बैन से व्‍यथित चीन, भारत से सामान्य ट्रेड रिश्‍ते बहाल करने का किया आग्रह

डोकलाम गतिरोध के एक साल बाद भारत-चीन के सैनिक आए साथ, किया डांस, देखें VIDEO

कोई भी इस स्थिति में नहीं है कि वो चीन के लोगों को निर्देश दे

शी ने कहा कि कोई भी इस स्थिति में नहीं है कि वो चीन के लोगों को निर्देश दे सके कि क्या किया जाना चाहिये या क्या नहीं किया जाना चाहिये. उन्होंने कहा कि हमें दृढ़ता से विचार करना चाहिये क्या सुधार किये जाने चाहिये और क्या किये जा सकते हैं. (इनपुट एजेंसी)