बीजिंग: चीन में एक अस्पताल के निदेशक की मंगलवार को कोरोना वायरस (Corona Virus) से मौत हो गई. चीन के सरकारी मीडिया सीसीटीवी ने यह जानकारी दी. वुहान स्थित वुचांग अस्पताल के निदेशक लिउ झिमिंग की जान बचाने के सारे प्रयास विफल हो गए और उनकी मौत हो गई. लिउ से पहले कोरोना वायरस के कारण अस्पताल के निदेशक स्तर के व्यक्ति के मरने की खबर नहीं आई थी. आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, देश में कोरोना वायरस से अब तक छह चिकित्सा कर्मियों की मौत हो चुकी है और 1,716 कर्मी इससे संक्रमित हैं. Also Read - लॉकडाउन नहीं बढ़ा; वर्क फ्रॉम होम रहेगा या नहीं, ऑफिस-स्कूल-कॉलेज खोलने के लिए क्या हैं नियम, 20 पॉइंट्स में जानें

लिउ की मौत की खबर सबसे पहले चीनी मीडिया और ब्लागरों ने मंगलवार आधी रात के बाद दी थी लेकिन फिर इस खबर को हटा दिया गया था. तब बताया जा रहा था कि डॉक्टर लिउ को बचाने के प्रयास में लगे हुए हैं. लिउ की मौत को वुहान के नेत्र चिकित्सक ली वेन लियांग की मौत से भी जोड़कर देखा जा रहा है. Also Read - अमेरिकी सांसद का दावा, चीन को हराना है तो भारत को 'शक्तिशाली' बनाना होगा

कोरोना वायरस से निपटने के लिए चीन की हरसंभव मदद करेगा भारत: भारतीय राजदूत Also Read - जानवरों से इंसानों में कैसे पहुंचा कोरोना वायरस, आखिरकार रिसर्च में हुआ खुलासा

नेत्र चिकित्सक ली वेन लियांग को दिसंबर के आखिर में कोरोना वायरस के खतरे के प्रति आगाह करने के लिए चीनी पुलिस ने सजा दी थी. ली की मौत पर देशव्यापी रोष उत्पन्न हुआ था और लोगों ने सरकारी व्यवस्था पर वायरस के खतरे को नजरअंदाज करने का आरोप लगाया था.

लोगों ने मंगलवार को सोशल मीडिया पर लिउ के साथ ली को भी याद किया. वुहान में डॉक्टरों के पास मास्क और रक्षात्मक बॉडीसूट की कमी है. कुछ डॉक्टर तो कामचलाऊ मास्क और सूट पहन कर लगातार काम कर रहे हैं. स्वास्थ्य कर्मियों ने यह जानकारी देते हुए बताया कि कुछ डॉक्टरों को श्वांस संबंधी समस्या के लक्षण नजर आ रहे हैं लेकिन चिकित्सा कर्मियों की कमी की वजह से उन्हें लगातार काम करना पड़ रहा है.