ताइपे: चीन ने सोमवार को अमेरिका को चेतावनी दी कि अगर उसने ताइवान से अपनी आगामी आर्थिक वार्ता रद्द नहीं की तो दोनों देशों के बीच संबंधों को ‘‘काफी नुकसान’ पहुंच सकता है. अमेरिका-ताइवान आर्थिक वार्ता में अमेरिका के वरिष्ठ अधिकारियों के भाग लेने की संभावना है. Also Read - चीन ने दूसरे दिन ताइवान के जलडमरु मध्‍य के ऊपर 19 फाइटर जेट उड़ाए, US को लेकर दी धमकी

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन ने संवाददाता सम्मेलन के दौरान अमेरिका से कहा कि वह ‘‘ताइवान के साथ सभी आधिकारिक बातचीत बंद करके, चीन-अमेरिका संबंध को गंभीर क्षति पहुंचने से रोके और ताइवान जलडमरूमध्य में शांति तथा स्थिरता बनाए रखे.’’ Also Read - लद्दाख सीमा विवाद: ‘चाइना स्टडी ग्रुप’ की करीब 90 मिनट तक चली बैठक, रक्षा मंत्री से लेकर सेना प्रमुखों ने की तैयारियों की समीक्षा

ताइवानी मीडिया में आयी खबरें के अनुसार, अमेरिका के आर्थिक विकास, ऊर्जा और पर्यावरण मामलों के अवर मंत्री कीथ क्राच इस सप्ताह के अंत में ताइवान की सरकार के साथ आर्थिक और वाणिज्यिक वार्ता के लिए द्वीप देश आ रहे हैं. इससे पहले अमेरिका के स्वास्थ्य मंत्री एलेक्स अजार पिछले महीने ताइवान की यात्रा पर आए थे. अमेरिका और ताइवान सरकार के बीच 1979 में औपचारिक संबंध समाप्त होने के बाद अजार द्वीप देश की यात्रा करने वाले पहले शीर्ष अमेरिकी नेता हैं. Also Read - ड्रैगन की हिमाकत! चीन ने ताइवानी क्षेत्र में उड़ाए लड़ाकू विमान, इसी देश में मौजूद हैं अमेरिकी दूत

आशंका है कि अमेरिकी मंत्री क्राच की यात्रा से चीन और नाराज होगा. चीन स्वशासित ताइवान को अपने देश का हिस्सा मानता है और अन्य देशों के साथ द्वीप देश के द्विपक्षीय संपर्क तथा संबंधों के खिलाफ है.