नई दिल्ली: चीन के सबसे अमीर कारोबारी व अलीबाबा ग्रुप के मालिक जैक मा इन दिनों खूब चर्चा में बने हुए हैं. उनके चर्चा में बने होने का मुख्य कारण है कि वे दो महीने से लापता है. ऐसे में बीते दिनों कई खबरें सामने आई जिसमें बताया गया कि जैक मा ने चीनी सरकार की नीतियों की आलोचना की थी, जिसके बाद से ही वे गायब हैं. ऐसे में नई जानकारी मुताबिक आशंका जताई जा रही है कि हो सकता है कि जैक मा चीन की जेल में बंद हों या फिर उन्हेमं नजरबंद कर दिया गया है.Also Read - चीन की सत्‍तारूढ़ CPC ने माना, पीपल्स लिबरेशन आर्मी पर उसका नियंत्रण कुछ समय के लिए कमजोर पड़ा था

बता दें कि चीन में ऐसी घटनाएं कोई पहली बार नहीं घटी है. ऐसे कई मामले सामने आ चुके हैं जब चीन सरकार की आलोचना करना वालों को रातों-रात गायब कर दिया गया कुछ का तो आजतक पता नहीं चल सका है. ऐसे में चीन के रिकॉर्ड को देखते हुए यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि चीन सरकार जैक मा के खिलाफ ऐसा कोई एक्शन ले सकती है. Also Read - लोकतांत्रिक छवि दिखाने की कोशिश कर रहा चीन, शी चिनफिंग ने स्थानीय निकाय चुनाव में किया मतदान


हॉगकांग स्थित द एशिया टाइम्स ने चीन की कम्युनिष्ट पार्टी के मुखपत्र पीपल्स डेली के हवाले से बताया है कि जैक मा को देश नहीं छोड़ने का आदेश दिया गया है. वहीं पीपुल्स डेली के एक अंक में छपा था कि चीनी सरकार की नीतियों के बगैर जैक मां अपनी कंपनी अली बाबा ग्रुप को इतनी ऊंचाइयों तक नहीं लेकर जा सकते थे. बता दें कि साल 2020 के नवंबर महीने से ही जैक मा किसी भी इवेंट में नजर नहीं आए हैं. यही कारण हैं कि उनके गायब होने को लेकर सवाल खड़े किए जा रहे हैं. Also Read - US प्रेसिडेंट जो बाइडन ने चीनी राष्‍ट्रपति शी से फोन पर 90 मिनट तक की बात

खबरों की माने एक भाषण के दौरान चीन के वित्तीय नियामकों और सरकारी बैंकों की पिछले साल अक्टूबर में दिए गए भाषण की आलोचना की थी. जिसेक बाद उनका और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग से विलाद भी हुआ था. बता दें कि बीते साल जब चीनी कंपनी दुनिया की सबसे ज्यादा शेयर-बॉन्ड बाजार में जारी करने जा रही थी, उस दौरान भी चीनी राष्ट्रपति के आदेश के बाद जैक मा को अपनी कंपनी के शेयर्स व बॉन्ड को बाजार में जारी करने से रोकना पड़ गया था.