कोपेनहेग: स्वीडन के दो सांसदों ने अपने देश की किशोरी जलवायु कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग को 2020 के नोबेल शांति पुरस्कार के लिए नामित किया है. स्वीडन की लेफ्ट पार्टी के जेन्स होम और हाकन स्वेनेलिंग ने सोमवार को कहा कि थनबर्ग ने ‘‘जलवायु संकट पर नेताओं का ध्यान खींचने के लिए कड़ी मेहनत की है’’ और उत्सर्जन में कटौती के लिए कार्य तथा पेरिस समझौते के अनुपालन के लिए काम करना भी शांति के लिए काम करना है.’’Also Read - Toolkit Case: अदालत ने जलवायु कार्यकर्ता दिशा रवि को एक दिन की पुलिस हिरासत में भेजा

2015 के ऐतिहासिक पेरिस जलवायु समझौते में धनी और गरीब दोनों तरह के देशों से वैश्विक तापमान में कमी लाने वाले उपाय करने को कहा गया है. थनबर्ग (17) ने छात्रों के स्कूल छोड़कर जलवायु परिवर्तन पर तेजी से कार्रवाई करने की मांग वाले प्रदर्शनों में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित किया है. Also Read - Greta Thunberg का पोस्ट शेयर करने वाली 21 साल की दिशा रवि अरेस्ट, दिल्ली पुलिस ने बेंगलुरु से पकड़ा

कोई भी सांसद किसी को भी नोबेल शांति पुरस्कार के लिए नामांकित कर सकता है और नॉर्वे की संसद के तीन सदस्यों ने पिछले वर्ष थनबर्ग को नामांकित किया था. Also Read - ग्रेटा के ट्वीट से किसान आंदोलन में विदेशी ताकतों का हुआ पर्दाफाश, दिल्ली पुलिस ने दी बड़ी जानकारी

(इनपुट भाषा)