कांगो में इटली के राजदूत और एक इतालवी पुलिस अधिकारी की सोमवार को हत्या कर दी गई. यह घटना उस वक्त हुई जब वे संयुक्त राष्ट्र के काफिले में कांगो की यात्रा कर रहे थे. एक संक्षिप्त वक्तव्य में विदेश मंत्रालय ने कहा कि लुका अतानासियो और अधिकारी की गोमा में हत्या की गई. वे कांगो में संयुक्त राष्ट्र स्थिरीकरण मिशन के काफिले में यात्रा कर रहे थे. अन्य कोई ब्योरा फिलहाल उपलब्ध नहीं है.Also Read - कांगो में राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान जारी: विपक्षी दलों का शांति समझौते से इंकार, सत्ता परिवर्तन के बाद भड़क सकती है हिंसा

उल्लेखनीय है कि कांगो को वर्ष 1960 में आजादी मिली थी और तब से पहली बार जनवरी 2019 में लोकतांत्रिक एवं शांतिपूर्ण तरीके से सत्ता परिवर्तन हुआ था और फेलिक्स त्शिसेकेडी राष्ट्रपति बने थे. Also Read - कांगो में ऑयल टैंकर की दूसरे वाहन से भिड़ंत में 50 लोगों की मौत, 100 बुरी तरह से झुलसे

उन्होंने विवादित चुनाव में शक्तिशाली जोसफ कबीला से सत्ता प्राप्त की थी. इस चुनाव में बड़े पैमाने पर धांधली करने एवं कबीला द्वारा त्शिसेकेडी को सत्तासीन कराने के लिए गुप्त समझौता करने के आरोप लगे जबकि कथित तौर पर लीक हुए चुनावी आंकड़ों के मुताबिक विपक्षी उम्मीदवार को वास्तव में जीत मिली थी. Also Read - Congo: President Kbila persuaded to quit | कांगो में राष्ट्रपति कबिला पद छोड़ने पर राजी

आकार में पश्चिमी यूरोप के बराबर और संसाधन संपन्न कांगों में दशकों तक भ्रष्ट तानाशाही रही है. इसके साथ ही कई गृहयुद्ध भी हुए और बाद में कई पड़ोसी देशों से भी विवाद हुआ. संयुक्त राष्ट्र मिशन के तहत शांति स्थापित करने और सुरक्षा कार्य कांगो प्रशासन को सौंपने के लिए वहां 15 हजार सैनिक तैनात हैं.

(इनपुट भाषा)