Corona Vaccine: पूरी दुनिया फिलहाल कोरोना महामारी के कारण परेशान है. इस कारण दुनियाभर के वैज्ञानिक लगातार कोरोना वायरस की वैक्सीन बनाने में जुटे हुए हैं. एक तरफ जहां भारत में कोरोना वायरस के वैक्सीन को ह्यूमन ट्रायल की इजाजत दे दी गई है. वहीं अमेरिकी कंपनी मॉडर्ना भी वैक्सीन की लास्ट स्टेज में पहुंच चुकी है. इसका ट्रायल जल्द ही शुरू किया जाएगा. वहीं चीन की बात करें तो इनके 2 वैक्सीन कई देशों में अलग-अलग ट्रायल्स में इस्तेमाल किए जा रहे हैं. भारत में डेवलप हुईं दो कोरोना वैक्‍सीन- Also Read - New York Firing: न्यूयॉर्क में हुई गोलीबारी में 2 लोगों की मौत, 14 घायल

बता दें कि अमेरिकी कैंपनी मॉडर्ना की वैक्सीन अपने अंतिम चरण में पहुंचने वाली है. खबरों की मानें तो इस वैक्सीन से काफी अच्छे परिणाम आए हैं. ह्यूमन ट्रायल के दौरान पहले चरण में सभी 45 मरीजों के शरीर में एंटीबॉडी विकसित हो गया. वहीं अब तीसरे चरण में 30 हजार लोगों को यह वैक्सीन दी जाएगी. इनमें से आधे लोगों को 100 माइक्रोग्राम वैक्सीन की डोज दी जाएगी. वहीं अन्य को प्लेसीबों दिया जाएगा. Also Read - कोरोना से उबरे गृह मंत्री अमित शाह, लोकसभा की कार्यवाही में भाग ले सकते हैं

बता दें कि भारत की कंपनी Biotech द्वारा ICMR और नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी ने मिलकर Covaxin बनाई है जो कोरोना पर कारगर साबित होगा. इस वैक्सीन के ह्यूमन ट्रायल का आदेश भी दिया जा चुका है. यही नहीं Zycov-D का ह्यूमन ट्रायल भी शुरू किया जा चुका है. साथ ही कई भारतीय दवाई निर्माता कंपनियां भी वैक्सीन बनाने में जुटी हुई हैं. Also Read - गर्लफ्रेंड के साथ समय बिताने के लिए कोरोना पॉजिटिव बता 'लापता' हो गया शख्स, पत्नी को हुआ शक और फिर...