वाशिंगटन: अमेरिका ने कोरोना वायरस (Corona Virus) वैश्विक महामारी से निपटने में मदद करने के मकसद से भारत को 29 लाख डॉलर की मदद दी है. भारत में इस समय कोरोना के 800 से अधिक मरीज हैं. करीब 20 लोगों की मौत हो चुकी है. देश 21 दिनों के लिए लॉकडाउन कर दिया गया है. सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि अमेरिका ने अन्य 64 देशों की मदद को हाथ आगे बढ़ाए हैं. इन देशों के लिए 17.4 करोड़ डॉलर की अतिरिक्त आर्थिक सहायता देने की घोषणा अमेरिका ने की है. इस राशि में से 29 लाख डॉलर मदद के तौर पर भारत को दिए जांएगे. यह फरवरी में अमेरिका की ओर से घोषित 10 करोड़ डॉलर की मदद के अलावा है. अमेरिका ने कहा कि वह इन देशों को ज़रूरत पड़ने पर वेंटिलेटर भी भेजने को तैयार है. Also Read - देश में 24 घंटे में कोरोना के 9,851 नए मामले, संक्रमितों का आंकड़ा 2 लाख 26 हजार के पार

फिलहाल घोषित की गई नई राशि रोग नियंत्रण एवं बचाव केंद्र (सीडीसी) समेत विभिन्न विभागों एवं एजेंसियों के विशाल अमेरिकी वैश्विक प्रतिक्रिया पैकेज का हिस्सा है. यह वित्तीय मदद वैश्विक महामारी के खतरे का सामना कर रहे सबसे ज्यादा जोखिम वाले 64 देशों के लिए है. Also Read - अमेरिकी सांसदों, राजदूत ने वॉशिंगटन में गांधी की प्रतिमा में तोड़फोड़ की निंदा की

अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने कहा कि वह प्रयोगशाला तंत्र स्थापित करने, मामलों की खोज और घटनाओं पर आधारित निगरानी को क्रियाशील बनाने तथा प्रतिक्रिया एवं तैयारी के लिए तकनीकी विशेषज्ञों की सहायता आदि में मदद करने के मकसद से भारत सरकार को 29 लाख डॉलर की मदद दे रहा है. अमेरिकी अंतरराष्ट्रीय विकास एजेंसी (यूएसएआईडी) के उप प्रशासक बोनी ग्लिक के मुताबिक यह नयी सहायता अमेरिका के वैश्विक स्वास्थ्य नेतृत्व को और मजबूत बनाएगा. Also Read - World Enviorment Day 2020: ये शहर हैं दुनिया में सबसे ज्यादा प्रदूषित, जानें यहां क्यों बने ऐसे हालात

आर्थिक मदद की घोषणा के अलावा अमेरिका अपने दोस्तों एवं सहयोगियों की वेंटिलेटरों की जरूरत की आपूर्ति करने को भी तैयार है. राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा कि कोरोना वायरस से बड़ी संख्या में लोगों के संक्रमित होने के बाद अमेरिका ने वेंटिलेटर और अन्य चिकित्सीय उपकरणों का उत्पादन बढ़ा दिया है और उनका प्रशासन अन्य देशों को भी इन्हें वितरित करेगा.

बता दें कि अमेरिका भी कोरोना से जूझ रहा है. अमेरिका में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या एक लाख पार कर गई है. जबकि सैकड़ों लोगों की मौत हो चुकी है. दुनिया में मरने वालों की संख्या 25 हज़ार पार कर गई है. जबकि संक्रमित लोगों की संख्या 5 लाख से ऊपर पहुंच गई है.