बीजिंग: चीन ने घातक विषाणु कोरोनावायरस के फैलने की आशंका को देखते हुए और विषाणु पर नियंत्रण करने के मद्देनजर इससे प्रभावित शहर के आसपास मौजूद पांच और शहरों में शनिवार को यात्रा प्रतिबंध की घोषणा की, जिससे अब करीब 5.6 करोड़ की आबादी प्रभावित है. Also Read - Coronavirus: भारत में बढ़ते कोरोना के मामलों को लेकर केंद्र और राज्यों ने की चर्चा; महाराष्ट्र ने दो जिलों में लॉकडाउन बढ़ाया

वुहान में स्थानीय अधिकारियों ने बताया कि यात्रा प्रतिबंध में सार्वजनिक परिवहन संपर्क और शहरों को जोड़ने वाले राजमार्ग शामिल हैं. मध्य हुबेई प्रांत में अब तक कुल 18 शहरों में यात्रा प्रतिबंध लगे हैं. चीन ने ट्रेनों, विमानों एवं बसों पर इस खतरनाक विषाणु के संदिग्ध मामलों की पहचान एवं फौरन उन्हें अलग-थलग करने के लिए देशव्यापी कदम उठाने के आदेश दिए हैं. चीन में इस विषाणु से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़ती जा रही है. चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने एक बयान में कहा कि विषाणु जांच केंद्र स्थापित किए जाएंगे और संदिग्ध निमोनिया से ग्रसित यात्रियों को निश्चित रूप से तुरंत अस्पताल लाया जाएगा. ट्रेन, विमान या बसों के विसंक्रमण के साथ संदिग्ध मामलों को अलग-थलग किया जाना चाहिए. Also Read - Anand Mahindra को इस तस्वीर ने किया परेशान, Tweet कर बोले- ये जुगाड़ तारीफ लायक नहीं

बयान में कहा गया कि ‘‘परिवहन के सभी विभागों को निश्चित रूप से सख्ती से’’ इसके रोकथाम और नियंत्रण के उपाय करने चाहिए. इसमें हवाईअड्डों, रेलवे स्टेशनों, बस स्टेशनों और बंदरगाहों पर जांच के उपाय शामिल हैं. इसके अनुसार ये उपाय सीमाशुल्क एवं सीमा जांच में सभी परिवहन मार्गों पर लागू हों. एनएचसी के अनुसार यात्रियों की सेवा में कार्यरत कर्मियों को निश्चित रूप से मास्क पहनना चाहिए. ये घोषणाएं ऐसे समय में हुई हैं जब विषाणु के संक्रमण से मरने वालों की संख्या बढ़कर 41 हो गई है और संक्रमण के मामले बढ़कर 1,300 हो गए हैं. Also Read - Night Curfew In Maharashtra: महाराष्ट्र में कोरोना से आफत, Wardha जिले में नाइट कर्फ्यू लागू