बीजिंग: टीकों के अनुसंधान में अंतरराष्ट्रीय सहयोग बढ़ाने के साथ-साथ चीन विश्व के विभिन्न देशों को चिकित्सा सामग्री की सहायता दे रहा है. 29 मार्च को शांगहाई से न्यूयार्क को भेजे गये पहले बैच की 80 टन की चिकित्सा सामग्री जेएफके इंटरनेशनल एयरपोर्ट पहुंची, जिनमें 1.2 करोड़ दस्ताने, 1.3 लाख एन95 मास्क, 17 लाख सर्जिकल मास्क और 50 हजार सेट सुरक्षात्मक कपड़े शामिल हैं. Also Read - Coronavirus: सीएम शिवराज सिंह चौहान बोले- MP में धीमी हुई मरीजों के दोगुना होने की दर

चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने 27 मार्च को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के साथ फोन पर बात करते हुए कहा कि वर्तमान स्थिति में चीन और अमेरिका को एकजुट होकर महामारी का मुकाबला करना चाहिए. चीन अमेरिका के साथ जानकारी और अनुभव साझा करने को तैयार है. अमेरिकी प्रतिनिधि ने फोन पर चीन का आभार व्यक्त किया और कहा कि अमेरिका दोनों देशों के बीच चिकित्सा और स्वास्थ्य क्षेत्रों में आदान-प्रदान बढ़ाने को तैयार है. Also Read - Video: COVID19 से जंग जीतने वाले एक माह के मासूम को मुंबई के अस्‍पताल ने ऐसे दी विदाई

चीन में कोविड-19 के टीकों के अनुसंधान शुरू होने के बाद से चीन हमेशा अंतरराष्ट्रीय सहयोग के रास्ते पर चल रहा है. चीनी उप विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री श्यु नानफिंग ने कहा कि चीन ने पहले समय में दुनिया के साथ वायरस और वायरल जीनोम सीक्वेंस शेयर किए. आशा है कि विभिन्न देश जल्दी ही टीकों का अनुसंधान शुरू करेंगे. वर्तमान में चीन पांच तकनीकी मार्गों से टीकों का अनुसंधान बढ़ा रहा है. इन पांच मार्गों में अंतरराष्ट्रीय सहयोग शामिल है. मिसाल के लिए डीएनए टीके में चीनी कंपनियां अमेरिका की इनोवियो कंपनी के साथ व्यावहारिक सहयोग कर रही हैं. Also Read - डोनाल्ड ट्रम्प ने मध्यस्थता की पेशकश की, चीन बोला- हालात 'पूरी तरह स्थिर और नियंत्रण-योग्य हैं'