कोरोना संक्रमण से बुरी तरह प्रभावित यूरोपीय देश जर्मनी ने एक बेहद सख्त नियम बनाया है. इसने अपने नागरिकों के लिए सार्वजिनक परिवहन के साधनों, लंबी दूरी की ट्रेनों और दुकानों में फेस मास्क लगाना अनिवार्य कर दिया है. सरकार ने कहा है कि अगर कोई भी व्यक्ति इन जगहों पर बिना मास्क का पाया गया तो उस पर 10 हजार यूरो यानी 8 लाख रुपये से अधिक का जुर्माना लगाया जाएगा. Also Read - कोरोना वायरस से हुई पूर्व पाकिस्तानी क्रिकेटर की मौत, परिवार ने आनन-फानन में दफनाया

सोमवार को जर्मनी के 16 में से 15 राज्यों में इस कानून को प्रभावी कर दिया गया. उत्तरी राज्य Schleswig-Holstein में बुधवार से यह कानून लागू होगा. अखबार The Guardian ने इस बारे में एक रिपोर्ट छापी है. Also Read - 15 दिन में एक लाख से अधिक लोग हुए कोरोना संक्रमित, बिगड़ सकती है स्थिति

इसमें कहा गया है कि अगर कोई व्यक्ति बिना मास्क का पाया जाता है तो उसे 25 से लेकर 10 हजार यूरो तक जुर्माना भरना होगा. वैसे जर्मनी में कुछ राज्य ऐसे हैं जो यह मानते हैं कि इसपर जुर्माना लगाना ठीक नहीं है. लोग खुद इस चीज का पालन करेंगे. Also Read - फिर से शुरू होगी टॉम क्रूज की फिल्म 'Mission: Impossible 7' की शूटिंग, अब ये है नया रिलीज डेट 

इसमें कहा गया है कि अगर किसी दुकान में दुकानदार या उसका स्टॉफ बिना मास्क का पाया जाएगा तो उसपर सबसे अधिक जुर्माना लगाया जाएगा. गौरतलब है कि जर्मनी में कोरोना से बचाव के लिए लॉकडाउन प्रभावी है. वैसे वहां लॉकडाउन के खिलाफ अवाजें भी उठ रही हैं. जर्मनी में कोविड-19 से 5,500 से अधिक लोगों की मौत हुई जो इटली, स्पेन, फ्रांस और ब्रिटेन में हुई मौतों से कम है.