Coronavirus Vaccine Updates: दुनिया के लगभग 200 देशों में कोरोना का कहर जारी है. दुनिया भर में कोरोना वायरस (Coronavirus) 3 करोड़ से ज्यादा लोग संक्रमित हैं वहीं, 9 लाख 46 हजार लोगों की अब तक मौत हो चुकी है. भारत समेत कई देश कोरोना की वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) विकसित करने की दिशा में तेजी से काम कर रहे हैं. इस बीच अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donalad Trump) ने भी उम्मीद जताई कि अप्रैल 2021 तक हर अमेरिकी के पास कोरोना की वैक्सीन उपलब्ध होगी. Also Read - Covid-19 Vaccine Update on 21 October 2020: पहले चरण में इन तीन करोड़ लोगों को दी जाएगी कोरोना की वैक्सीन

न्यूज एजेंसी ANI के अनुसार ट्रंप ने कहा कि कि, जैसे ही वैक्सीन (Corona Vaccine) को मंजूरी मिल जाती है, प्रशासन इसे तुरंत अमेरिकी लोगों तक पहुंचाएगा और हर महीने लाखों डोज मिलेंगे. उन्होंने कहा कि हमें उम्मीद है कि अप्रैल 2021 तक हर अमेरिकी के पास कोरोना की वैक्सीन उपलब्ध होगी. उन्होंने कहा कि अमेरिका के शानदार डॉक्टर और वैज्ञानिक कोरोना वैक्सीन का उत्पादन करने के लिए चौबीसों घंटे काम कर रहे हैं. Also Read - कोरोना से लड़ने में PM मोदी की अपील को मंत्र बनाएं देश के लोग: अमित शाह

उन्होंने कहा कि महामारी को समाप्त करने और जनजीवन को सामान्य करने के लिए वैक्सीन को जल्द से जल्द विकसित किया जाना चाहिए. राष्ट्रपति ने एक सफल वैक्सीन पर बात करते हुए कहा कि यह न केवल लाखों लोगों की जान बचाएगी बल्कि आने वाले जेनरेशन के लिए भी उपयोगी साबित होगी. Also Read - कोल्ड चेन की कमी से दुनिया में तीन अरब लोगों तक कोरोना टीका पहुंचने में हो सकती है देर

बता दें कि अमेरिका दुनिया में कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित देश है. अमेरिका में कोरोना के कहर से 1 लाख 97 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है वहीं, 66 लाख 75 हजार से ज्यादा लोग संक्रमित हैं. अमेरिका में कोरोना के लगभग 40 लाख एक्टिव मामले हैं वहीं, 25 लाख लोग इलाज के बाद पूरी तरह ठीक हो चुके हैं.

वहीं, भारत की बात करें तो यहां कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 52 लाख पार कर चुका है और अब तक 84 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हुई है. उधर, केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी चौबे ने शुक्रवार को लोकसभा में कहा कि अगर कोविड-19 के टीके के क्लीनिकल परीक्षण सफल होते हैं तो एक प्रभावी टीका 2021 की पहली तिमाही के अंत तक उपलब्ध हो सकता है. उन्होंने एक प्रश्न के लिखित उत्तर में कहा कि किसी टीका निर्माता के साथ कोई पूर्व खरीद समझौता नहीं किया गया है.