नई दिल्ली: कोरोना वैक्सीन निर्माण कर रही दवा कंपनी फाइजर (Pfizer) ने बीते दिनों अपने वैक्सीन की गुणवत्ता पर कहा था कि यह वैक्सीन 90 प्रतिशत तक प्रभावी पाई गई है. लेकिन इसके ठीक बाद अब इस वैक्सीन के ट्रायल से गुजर रहे वॉलंटियर्स ने सिरदर्द, बुखार और हैंगओवर जैसे दवा के साइड इफेक्ट्स की शिकायत की है. अब फाइजर कंपनी के दावों पर सवाल उठने लगे हैं. Also Read - कोरोना संकट पर प्रधानमंत्री मोदी की अध्यक्षता में शुक्रवार को सर्वदलीय बैठक, क्या फिर लगेगा देशव्यापी Lockdown?

हालांकि इस बीच रूस की कंपनी गैमेलया द्वारा निर्मित स्पूतनिक 5 वैक्सीन को लेकर दावा किया गया है कि यह वैक्सीन 92 फीसदी तक कारगर पाई गई है. डेली मेल के मुताबिक एक 45 वर्षीय वॉलंटियर ने कहा कि उसे फ्लू के टीके की ही तरह साइड इफेक्ट्स हुएं लेकिन यह दूसरे टीके के बाद उसे गंभीर लक्षणों का सामना करना पड़ रहा है. उन्होंने बताया कि फाइजर दवा का हैंगओवर उन्हें हुआ है. Also Read - Lockdown in Rajasthan: अब राजस्थान में 31 दिसंबर तक लगा लॉकडाउन और नाइट कर्फ्यू, नहीं खुलेंगे स्कूल, देखें नई गाइडलाइन

दूसरे डोज में उन्हें बुखार, सिरदर्द और पूरे शरीर में दर्द की शिकायत हुई. यह दर्द और साइड इफेक्ट पहली डोज की तुलना में अधिक था. बता दें कि यह खबर ऐसे समय में सामने आई है जब दुनिया कोरोना के कहर से जूझ रही है और पूरी दुनिया इस आस में है कि जल्द से जल्द कोरोना की कोई वैक्सीन बाजार में आ जाए ताकि इसे जड़ से खत्म किया जा सके. Also Read - India Covid-19 Updates: देश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 94 लाख के पार, बीते 24 घंटे में 38,772 नए केस और 443 की मौत