पेरिस: पूर्व फ्रांसीसी राष्ट्रपति निकोलस सरकोजी के खिलाफ 2007 के राष्ट्रपति चुनाव अभियान के लिए दिवंगत लीबियाई नेता मुअम्मर गद्दाफी से अवैध रूप से वित्तीय मदद लेने का आरोप तय किया गया है. समाचार एजेंसी एफे के मुताबिक, पूर्व राष्ट्रपति सरकजी से दो दिनों तक पुलिस हिरासत में पूछताछ के बाद तीन न्यायाधीशों के एक पैनल ने बुधवार शाम सरकोजी के खिलाफ रिश्वत लेने, चुनाव प्रचार के लिए अवैध वित्तीय मदद लेने और लीबियाई तानाशाह से धन लेने करने का आरोप तय कर दिया. Also Read - Former French president Nicolas Sarkozy arrested in poll funding from Muammar Gaddafi | फ्रांस के पूर्व प्रेसिडेंट पुलिस हिरासत में, सरकोजी पर है पूर्व तानाशाह गद्दाफी से धन लेने का आरोप

वहीं, सरकोजी ने कह है कि ऐसा कोई सबूत नहीं है, जो इस आरोप को तय करने में मदद कर कि उन्‍होंने लीबिया के शासक के 2007 के चुनाव अभियान के लिए पैसा लिया है. उन्‍होंने फ्रैंच न्‍यूजपेपर ले फिगारो में एक लेख में लिखा है ” मैं बिना किसी भौतिक सबूत के आरोपित किया गया हूं.”

पुलिस ने दो दिन लगातार पूछताछ की

बता दें कि साल 2007 से 2012 तक फ्रांस के राष्ट्रपति रहे 63 वर्षीय सरकोजी पहले से ही 2012 में चुनाव अभियान के लिए अवैध धन लेने के आरोप का सामना कर रहे हैं. इस चुनाव में उन्हें हार का सामना करना पड़ा था. पूर्व राष्ट्रपति से 20 और 21 मार्च को पेरिस के उपनगर नैनटेरे में न्यायायिक पुलिस मुख्‍यालय में पूछताछ की गई थी.

ये भी पढ़े- फ्रांस के पूर्व प्रेसिडेंट पुलिस हिरासत में, सरकोजी पर है पूर्व तानाशाह गद्दाफी से धन लेने का आरोप

सरकोजी के मंत्री रहे होर्टेफ्यूक्स से हुई 15 घंटे पूछताछ

अभी यह पता नहीं चल पाया है कि सरकोजी ने जांचकर्ताओं को क्या बताया. जांचकर्ताओं ने सरकोजी की सरकार के तहत आतंरिक मंत्री रह चुके ब्रिस होर्टेफ्यूक्स से भी 15 घंटे तक पूछताछ की. होर्टेफ्यूक्स के वकील जीन-युवीस डूपेक्स ने बीएफएमटीवी चैनल को बताया कि पुलिस ने उनके मुवक्किल से करीब 200 सवाल पूछे, जिन्होंने सरकोजी द्वारा गद्दाफी से धन लेने की बात से स्पष्ट इनकार कर दिया. सरकोजी ने खुद भी फ्रांसीसी-लीबियाई व्यापारी व हथियार व्यापारी जियाद टेकीएडीन द्वारा लगाए गए आरोप सहित अवैध धन लेने के इन आरोपों से साफ इनकार किया है.

पनामा और स्विस बैंकों के जरिए सरकोजो को मिली थी मोटी रकम

फ्रांस का कानून चुनाव में उम्मीदवार को विदेशी चंदा 6300 पाउंड से ज्यादा नगदी लेने की इजाजत नहीं देता, लेकिन आरोप है कि सरकोजी ने राष्‍ट्रपति चुनाव में पनामा व स्विट्जलैंड के बैंकों के माध्यम से काफी धन हासिल किया. रिपोर्ट के अनुसार, पेरिस में सार्वजनिक हुए एक दस्तावेज से पता चला है कि फ्रांस के नेता और लीबिया के पूर्व तानाशाह ने एक अवैध वित्तीय सौदा किया था.

 5 करोड़ यूरो लेने का सबूत

अरबी में लिखे और साल 2006 में गद्दाफी के खुफिया प्रमुख मुसा कुसा द्वारा हस्ताक्षरित इस दस्तावेज में सरकोजी के अभियान को समर्थन देने के लिए लगभग 5 करोड़ यूरो के बराबर धन देने के बारे में सैद्धांतिक समझौता किया गया था.

लंदन में सरकोजी के सहयोगी की हुई थी गिरफ्तारी

इस मामले में कई हफ्ते पहले सरकोजी के पूर्व सहयोगी अलेक्जेंद्र जोहरी को लंदन में गिरफ्तार किया गया था और बाद में जमानत पर छोड़ दिया गया था. सरकोजी के पूर्व मंत्री और करीबी सहयोगी ब्रिस होर्टेफ्यूक्स से भी पूछताछ की गई.

2013 में जांच, लेकिन अब गिरफ्तारी

इस मामले में जांच अप्रैल 2013 को शुरू हुई थी, लेकिन यह पहली बार है कि सरकोजी से पूछताछ के बाद गिरफ्तारी की गई है. सरकोजी पर आरोप लगे हैं कि उनके चुनाव अभियान में लीबिया के शासक गद्दाफी ने अवैध धन लगाया था. उन्होंने हालांकि इन आरोपों से इनकार किया है. (इनपुट एजेंसी)