नई दिल्ली: कोरोना वायरस के चलते दुनिया के अधिकतर देशों ने लॉकडाउन को अपना लिया है. लॉकडाउन के चलते सभी स्कूल कॉलेजों और अधिकतर ऑफिसों को भी बंद कर दिया है. लॉकडाउन के चलते सभी कर्मचारी वर्क फ्रॉम होम कर रहे हैं. ऐसे में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के ज़रिए कई तरह की मीटिंग्स और काम हो रहे हैं. इस ज़रूरत के चलते ज़ूम एप इन दिनों खूब चर्चा में है. लॉकडाउन के बीच यह ऐप काफी लोकप्रिय ऐप बनकर उभरा है. लेकिन रविवार को न्यूयॉर्क शहर के अधिकारियों ने प्राइवेसी कारणों के चलते स्कूलों में रिमोट टीचिंग के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले इस ऐप को बैन कर दिया. Also Read - Coronavirus in Assam Update: 156 नए मामलों के साथ संक्रमितों की संख्या 500 के पार, ये जिले बने नए हॉटस्पाट

न्यू यॉर्क सिटी डिपार्टमेंट ऑफ एजुकेशन के एक प्रवक्ता डेनिएल फिलसन ने कहा, जरूरत हैं कि हम अपने छात्रों को सुरक्षित रिमोट टीचिंग सेवा प्रदान करें. सभी स्कूलों को ज़ूम मऐप का इस्तेमाल करने से बचना चाहिए. रिमोट टीचिंग के और भी कई नए तरीके मौजूद हैं. हम अपने कर्मचारियों और छात्रों के हितों के लिए यह फैसला ले रहे हैं. वहीं, न्यूयॉर्क शहर के शिक्षा विभाग ने स्कूलों को माइक्रोसॉफ्ट टीम का उपयोग करने के लिए कहा है जो कि सुरक्षा की दृष्टि से सही है और इसमें ज़ूम ऐप मजैसी मही समानताएं हैं. Also Read - कोरोना वायरस से प्रभावित टॉप 10 देशों की सूची में पहुंचा भारत, जून के अंत तक बहुत तेजी से बढ़ेंगे मामले

ऐसे में ज़ूम ने दावा किया है कि यह ऐप सुरक्षा के कई अवसर देता है और यूज़रों के डेटा की सुरक्षा के लिए कई स्तरों पर कई कदम उठाता है. ज़ूम ने बीबीसी के साथ बातचीत में यह भी कहा कि यूनाइटेड किंगडम के रक्षा विभाग समेत कई अंतर्राष्ट्रीय संस्थान और सरकारी व गैर सरकारी इकाइयां इस ऐप का इस्तेमाल करती हैं या इस एप के साथ किसी​ किस्म की डील से जुड़ी हैं. उपभोक्ताओं को खतरा महसूस करने की ज़रूरत नहीं है. Also Read - पंजाब में कोविड-19 के 21 नए मामले सामने आये, कुल संख्या बढ़ कर 2,081 हुई