मॉस्को: कोरोना महामारी थमने का नाम नहीं ले रहा. अगर भारत की बात करें तो पूरे विश्व में भारत ने ब्राजील को कोरोना संक्रमण के मामले में पछाड़ दिया है और दूसरे स्थान पर हम आ चुके हैं. ऐसे भारत में बीते दिनों संक्रमितों की संख्या 90 हजार तक पहुंच गई. लेकिन अब रूस द्वारा निर्मित वैक्सीन के आने व मशहूर मेडिकल जर्नल में स्पूतनिक V को प्रमाणिक बताए जाने के बाद अब रूसी सरकार कोरोना वैक्सीन को अपने देश में आम जनता के लिए उपलब्ध कराने जा रही है. Also Read - Alert: कोविड-19 रोगियों में किडनी खराब होने का जोखिम बढ़ा

रूसी न्यूज एजेंसी TASS के मुताबिक स्पूतनिक वैक्सीन को स्वास्थ्य मंत्रालय की अनुमित के बाद व्यापक रूप से उपयोग के लिए इसे जारी किया जाएगा. रशियन एकेडमी ऑफ साइंस के डेप्युटी डायरेक्टर डेनिस लोगुनोव (Denis Logunov) ने कहा कि इस दवा को मेडिकल वॉच डॉग Roszdravnadzor की गुणवत्ता जांच को पास करना होगा. 10-13 सितंबर के बीच इस वैक्सीन के नागरिकों को इस्तेमाल करने के लिए अनुमति प्राप्त करनी है. लोगुनोव के मुताबिक वैक्सीन सबसे पहले उन्हें दी जाएगी, जिन्हें संक्रमण से सबसे ज्यादा खतरा है. Also Read - India Covid-19 Updates: देश में कोरोना से जान गंवाने वालों का आंकड़ा 90 हजार के पार, 83 हजार से ज्यादा नए केस आए सामने

बता दें कि इस वैक्सीन का नाम रूस की पहली सैटेलाइट स्पूतनिक के नाम पर रखा गया है. बीते दिनों जब रूस ने दावा किया था कि उसने वैक्सीन इजाद किया है तब पश्चिमी देशों ने रूस के वैक्सीन को यह कहकर नकार दिया था कि रूस ने टेस्टिंग के आंकड़े को छिपाया है. इसी बीच बीते दिनों एक मशहूर मेडिकल जर्नल में रूस की वैक्सीन को सुरक्षित बताया गया है. इस जर्नल में रूस की टेस्टिंग की पूरी जानकारी को पब्लिश किया गया है. Also Read - Parliament Monsoon Session: समय से 8 दिन पहले ही आज खत्म हो सकता है संसद का मॉनसून सत्र, यह है वजह...